गर्मियां आते ही उत्तराखंड में पानी का संकट गहराता जा रहा है। ग्लोबल वार्मिंग और देख – रेख की कमी के कारण प्राकृतिक स्रोत भी सूखने लगे हैं।

इस मामले को देखते हुए रविवार को मीडिया से बात करते हुए प्रदेश के आबकारी, वित्त एवं पेयजल मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि गर्मियों में पेयजल संकट से निपटने के लिए कार्ययोजना तैयार की जा चुकी है। पेयजल मंत्री ने कहा कि राज्य में 11 पेयजल योजनाएं पूर्ण बंद व आठ आंशिक बंद हैं। गर्मियों में 633 योजनाएं समस्याग्रस्त, 422 मोहल्ले व 1122 बस्तियों में जल संकट हो सकता है।

उन्होंने कहा कि पहली अप्रैल से तीन माह तक अधिकारी-कर्मचारियों की छुट्टियां रद कर दी गई हैं। सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक सभी 35 डिवीजन में हेल्पलाइन स्थापित की जाएगी। पेयजल का कॉमर्शियल उपयोग प्रतिबंधित कर दिया गया है। 95 नए हैंडपंप में से 25 हल्द्वानी में लगाए जाएंगे।

 

 

 

 

 

The post उत्तराखंड में 1500 इलाकों में पेयजल संकट, 3 माह तक सरकारी कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द appeared first on www.dainikuttarakhand.com.



https://ift.tt/2qA6zg1


See More

 
Top