देहरादून- साल 2015 के बहुचर्चित लाल बहादुर शास्त्री फर्जी आईएएस मामले की आरोपी रूबी चोधरी के खिलाफ गैर जमानती वॉरेंट जारी किया गया है.
गौरतलब हो कि थाना मसूरी में 420,467,468,471,170 विभिंन धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार किया गया था जिसके बाद तकरीबन 47 दिन रूबी को जिला कारागार में रहना पड़ा था.
इसी मामले में देहरादून की सीजेएम कोर्ट ने प्रक्रिया के तहत सूचना पर भी माननीय न्यायालय के समक्ष पेश न होने पर आरोपी रूबी के गैर जमानतीय वारंट जारी किये गए।

प्रशासनिक अकादमी ने रूबी के आरोपों को किया था खारिज

आपको बता दें प्रशासनिक अकादमी ने रूबी चौधरी के उन आरोपों को खारिज कर दिया था, जिसमें अकादमी और उसके उप निदेशक सौरभ जैन के खिलाफ घूस लेकर नौकरी दिलाने के वादे की बात कही गई थी. अकादमी ने आरोपों को बेबुनियाद बताया था..

अकादमी के संयुक्त निदेशक डी. नरियाला की तरफ से जारी प्रेस नोट में कहा गया था कि अकादमी रूबी चौधरी द्वारा संस्थान और उसके उप निदेशक सौरभ जैन के खिलाफ लगाए गए आरोपों को पूरी तरह से खारिज करती है. अकादमी ने कहा कि कथित व्यक्ति द्वारा नौकरी दिलाने के झूठे वादे के आरोप निराधार और द्वेषपूर्ण हैं, इसलिए इन्हें पूरी तरह से खारिज किया जाता है.

विज्ञप्त‍ि में कहा गया था कि अकादमी को मिली जानकारी के अनुसार, रूबी अकादमी के सुरक्षा गार्ड देव सिंह को आवंटित रिहायशी क्वार्टर में अनधिकृत रूप से रह रही थीं. जब गत 27 मार्च को यह मामला अकादमी के सुरक्षा इंचार्ज की नोटिस में आया, तो तत्काल इस पर एक जांच गठित की गई. मामला सामने आने के दो दिन बाद 29 मार्च को जब रूबी अकादमी आईं, तो उसे सुरक्षा स्टाफ ने सुरक्षा इंचार्ज के सामने पेश होने को कहा. उसके बाद तत्काल जांच की गई और वरिष्ठ उप निदेशक और सुरक्षा इंचार्ज प्रेम सिंह द्वारा रूबी के बयान दर्ज किए गए. इस पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी की गई.

शुरुआती जांच पूरी होने के बाद महिला को अकादमी छोड़ने के लिए कहा गया और उसके पहचान पत्र, वोटर आईडी कार्ड इत्यादि दस्तावेजी रिकार्ड सुरक्षा स्टाफ द्वारा जब्त कर लिए गए थे. सुरक्षा गार्ड देव सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया था.



https://ift.tt/2JO7m5X


See More

 
Top