पिथौरागढ़- मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को जिला चिकित्सालय पिथौरागढ़ में प्रदेश के पहले आईसीयू की स्थापना की। मुख्यमंत्री ने हंस फाउंडेशन के सहयोग से स्थापित आईसीयू के अतिरिक्त 9 मोबाइल मेडिकल यूनिट एवं 2 मैमोग्राफी वेन्स को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। पिथौरागढ़ जिला चिकित्सालय में स्थापित यह आईसीयू, मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश के प्रत्येक जिला चिकित्सालय में आईसीयू स्थापना लक्ष्य 2020 तथा इस सम्बन्ध में उनके द्वारा पूर्व में की गई घोषणाओं के तहत की गई है।

आईसीयू के उद्घाटन अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ावा देना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस आईसीयू की स्थापना उनके द्वारा प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों में आईसीयू की स्थापना किये जाने की घोषणा के तहत की गई है। जिसमें हंस फाउण्डेशन द्वारा भी सहयोग दिया गया है, जो राज्य को समर्पित किया जा रहा है। इस आईसीयू की खासियत यह है कि इसमें सभी आवश्यक सुविधायें उपलब्ध है तथा मरीजों, डॉक्टरों के साथ ही तीमारदारों आदि को भी विशेष सुविधाऐं दी गयी है। इस आईसीयू में चिकित्सा संबंधी सभी आधुनिक सुविधाऐं व उपकरण उपलब्ध है।

उन्होंने कहा कि हमारी सोच प्रदेश के दुरस्त क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधाऐं मुहैया कराना है इसी क्रम में हंस फाउंडेशन के सहयोग से जनपद पिथौरागढ़ से उक्त आईसीयू की स्थापना कर इसकी शुरूआत की गयी है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि शीघ्र ही जनपद उत्तरकाशी, पौड़ी, टिहरी, चमोली समेत अन्य जिलों में यह सुविधा इसी वर्ष उपलब्ध करायी जायेगी। उन्होने कहा कि जनपद पिथौरागढ़ में 02 सप्ताह में 30 चिकित्सकों की नियुक्ति कर दी जायेगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने हंस फाउण्डेशन के सहयोग से उपलब्ध कराये गये 09 मोबाइल मेडिकल यूनिट एवं 02 मोमोग्राफी वैन्स को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। उक्त मोबाइल यूनिट एवं मौमोग्राफी वैन्स के संचालन के संबंध में हंस फाउण्डेशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ले. जनरल सुरेन्द्र मोहन मेहता ने बताया कि जनपद पिथौरागढ़ से जिन 02 मैमोग्राफी वैन्स को हरी झंडी दिखायी गयी है उन्हें उत्तराखंड सरकार को सर्मपित किया गया है। उक्त मैमोंग्राफी वैन्स एक कुमाउं मण्डल एवं गढ़वाल मण्डल में संचालित होगी, जो गांव-गांव जाकर बे्रस्ट कैंसर की जांच करेगी। ब्रेस्ट कैंसर के प्रकरण पाये जाने पर संबंधित रोगी को कैंसर हास्पिटल हल्द्वानी सुशीला तिवारी तथा दून मेडिकल कॉलेज ले जाया जायेगा ताकि ससमय मरीजों का ईलाज हो सके। इसके अतिरिक्त 09 मेडिकल यूनिट जिन्हे आज हरी झंडी दिखायी गयी है उन प्रत्येक मेडिकल यूनिट में एक चिकित्सक, फार्मसिस्ट, लैब टैक्निशियन, एएनएम तैनात रहेंगे जो एक मोबाइल प्राथमिक चिकित्सालय की तरह कार्य करेगा।

इस अवसर हंस फाउण्डेशन की माता मंगला द्वारा कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र का विशेष प्रयास है कि प्रदेश में शिक्षा के साथ ही सीमांत क्षेत्रों में स्वास्थ्य व्यवस्थाऐं सुदृढ़ की जाय। इसी के तहत सरकार के सहयोग से हंस फाउण्डेशन द्वारा यह आईसीयू को 02 माह के भीतर स्थापित किया गया है। शीघ्र ही प्रदेश के अन्य जनपदों में भी सरकार के सहयोग से हंस फाउंडेशन द्वारा आईसीयू की स्थापना की जायेगी। उन्होंने कहा कि हंस फाउण्डेशन की ओर से देश के 28 राज्यों में यह सेवाऐं दी जा रही है। जनपद पिथौरागढ़ में यह आईसीयू निश्चित रूप से मरीजों के जीवन की रक्षा करने के साथ ही चिकित्सा की सुविधा प्रदान करने में लाभप्रद होगा।

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत, विधायक डीडीहाट बिशन सिंह चुफाल, सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य नितेश झा, अपर सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य जुगल किशोर पंत, जिलाधिकारी सी रविशंकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय जोशी, हंस फाउंडेशन के भोले जी महाराज आदि उपस्थित थे।



https://ift.tt/2GXo3hq


See More

 
Top