कश्मीर में पत्थरबाजी कर रहे युवाओं को सेना प्रमुख बिपिन रावत ने चेतावनी दी है कि वह जो युवा कश्‍मीर में आजादी का ख्‍वाब देख रहे हैं, उनका सपना कभी पूरा नहीं होगा क्‍योंकि वे सेना से नहीं लड़ सकते. उन्‍होंने कहा, ”ये जिन युवाओं ने हमारे खिलाफ बंदूक उठाई है, वास्‍तव में वे हमारे लिए चुनौती ही नहीं हैं। आतंकी भी हमारे लिए कोई बड़ी चुनौती नहीं हैं। हम आम लोगों से कहते हैं कि हमारे ऑपरेशन में बाधा मत डालिए, हम पर पत्‍थर मत फेंकिए.” उन्‍होंने कहा, ”हमने हाल में एक जगह एक ऑपरेशन को इसलिए अधूरा छोड़ दिया ताकि हालात ज्‍यादा नहीं बिगड़ें लेकिन जब हम वहां से हटे तो जवानों पर दूसरी जगह दूसरे घर से हमला हो गया. इसमें एक जेसीओ घायल भी हो गया और वह अभी भी अस्‍पताल में है.”

जनरल रावत ने कहा कि हाल में उन्‍होंने शांति बहाली की कोशिशों के तहत लोगों से आगे आने की अपील की लेकिन 15 अप्रैल को जब यह घोषणा की गई तो उसी दिन शाम को हमारे जवानों पर हमला हो गया. लोगों को वास्‍तव में घाटी में शांति के लिए आगे आना चाहिए तो हम भी आगे बढ़ सकें.

आर्मी जनरल बिपिन रावत ने कश्‍मीर जारी हिंसा और आतंकियों के मसले पर कहा है कि इस वक्‍त घाटी में एक नया ट्रेंड देखने को मिल रहा है. उन्‍होंने कहा कि जो आतंकी सरेंडर करना चाहते हैं, वे हमसे कहते हैं कि प्‍लीज ये मत बोलिए कि हमने सरेंडर किया है. जनरल बिपिन रावत ने द इंडियन एक्‍सप्रेस को दिए एक इंटरव्‍यू में कहा, ”वे चाहते हैं कि ऐसा नहीं दिखना चा‍हिए कि उन्‍होंने सरेंडर किया. वे यह भी नहीं चाहते कि हम कहें कि उनको पकड़ा गया. वे चाहते हैं कि एनकाउंटर के दौरान वे घायल हो गए और इस कारण पकड़े गए. दरअसल उनमें भी भय है, वर्ना और क्‍या वजह हो सकती है?”

जनरल रावत ने यह भी कहा, ”कश्‍मीर में कई युवा आतंकी संगठन इस्‍लामिक स्‍टेट(आईएस) के झंडे उठाते हैं. क्‍या आपको इसका मतलब भी पता है? क्‍या आप कश्‍मीर का तालिबानीकरण करना चाहते हैं? क्‍या उस तरह के समाज में रहना चाहते हैं? ये युवा लोग दरअसल इसका मतलब ही नहीं समझते…कोई न कोई तो इनको उकसा ही रहा है।

The post पत्थरबाजों को आर्मी चीफ ने दी चेतावनी, कश्मीरी युवा भूल जाएं आजादी appeared first on www.dainikuttarakhand.com.



https://ift.tt/2G1BJ5Q


See More

 
Top