गरुवार को दिल्‍ली की भ्रष्‍टाचार रोधी शाखा (एसीबी) ने लोक निर्माण विभाग घोटाले के मामले में मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दिवंगत साढ़ू सुरेंद्र कुमार बंसल के बेटे विनय बंसल को गिरफ्तार कर लिया. बीते साल पीडब्‍ल्‍यूडी में 10 करोड़ का घोटाला सामने के बाद से ही इस मामले में जांच की जा रही है.

एसीबी ने लोक निर्माण विभाग घोटाले में बंसल और पीडब्‍ल्‍यूडी के आला अधिकारियों के खिलाफ तीन मामले पहले ही दर्ज कर चुके हैं. इस मामले में सुरेंद्र बसंल का नाम सामने आने के बाद सात मई को उनका निधन हो गया था.

विनय बंसल अपने पिता की कंपनी रेणु कंस्ट्रक्शन में पार्टनर हैं. यह कंपनी घोटालों को लेकर जांच के दायरे में है. 8 मई 2017 को एसीबी की ओर से केजरीवाल और अन्य के खिलाफ दर्ज 3 एफआईआर के मुताबिक सुरेंद्र कुमार बंसल के रेणु कंस्ट्रक्शन को सड़क और सीवर निर्माण के लिए अवैध तरीके से ठेक दिए गए.

गौरतलब है कि रोड एंटी करप्‍शन आर्गनाइजेशन (एनजीओ) के संयोजक राहुल शर्मा ने मुख्‍यमंत्री केजरीवाल पर बंसल के 10 करोड़ रुपए के कथित जाली बिलों को मंजूरी देने का आरोप लगाया है.

इस मामले में शिकायकर्ता राहुल शर्मा के मुताबिक 4 लाख 90 हजार के ठेके को 46 प्रतिशत कम रेट पर बंसल को दिया गया. शर्मा ने यह भी आरोप लगाया है कि निर्माण कार्य काफी घटिया कराया गया.

दिल्ली पुलिस का कहना है कि आरोपी से कुछ सवाल पूछे गए. सवालों के संतोषजनक जवाब न मिलने पर बंसल को गिरफ्तार किया गया. विनय बंसल से महादेव कंपनी के बारे में पूछताछ की गई जिससे कच्चा माल खरीदने का दावा किया गया था. छानबीन के दौरान पता चला कि महादेव नाम की कोई कंपनी अस्तित्व में है ही नहीं.

दूसरी ओर दिल्ली सरकार ने विनय बंसल की गिरफ्तारी को राजनीतिक बदले की भावना के तहत किया गया बताया है. दिल्ली सरकार का कहना है कि बंसल के फर्म ने जो काम किए उसे श्रीराम लैब्स ने जायज ठहराया है. श्रीराम लैब्स को एसीबी ने जांच का जिम्मा सौंपा थआ.



https://ift.tt/2G0Rt92


See More

 
Top