उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ओर से महागठबंधन को लेकर दिए गए बयान पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पलटवार किया है. सत्ताधारी पार्टी ने कहा है कि अखिलेश सत्ता पाने के लिए चाहे जिसके आगे घुटने टेक दें, लेकिन अब उनकी दाल गलने वाली नहीं है.

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश यादव के बीच होने वाले संभावित गठबंधन को लेकर कहा, “उत्तर प्रदेश की जनता ने बीते 14 साल के उनके शासन को देखा है. हाल ही में अखिलेश यादव ने अपने सरकारी बंगले को छोड़ने से पहले उसका जो हाल किया, वह भी सबने देख लिया है इसलिए अखिलेश यादव चाहे कितना भी जतन कर लें, यूपी में अब उनकी दाल गलने वाली नहीं है.”

उन्होंने कहा कि भाजपा एक बार फिर 2019 में मोदी के नेतृत्व में 2014 से भी अधिक जनसमर्थन के साथ विजय पताका फहराएगी. अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए मनीष शुक्ला ने कहा, “समझौते के लिए मायावती के सामने घुटना टेकना बलिदान नहीं, बल्कि तरणताल वाला बंगला फिर मिले, उसकी लोलुपता है.”

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि अखिलेश की हताशा इस बयान में भी दिखती हैं कि जब वह कहते हैं कि ‘बंगला की वास्तविकता दिखाने वाले अधिकारी मेरे सामने कप-प्लेट उठाते थे.’ उन्होंने कहा कि अब प्रदेश की जनता ने अखिलेश यादव का वास्तविक विद्रूप रूप देख लिया है. जनता अब प्रदेश में बदहाली देने वाली सपा को फिर से सत्ता की चाभी नहीं सौंपेगी.

उल्लेखनीय है कि पूर्व मुख्यमंत्री व सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा था कि वह भाजपा को हराने के लिए कोई भी कीमत चुकाने को तैयार हैं. यदि सपा को गठबंधन में कम सीटें भी मिलेंगे तो वह इस पर आगे बढ़ेंगे.



https://ift.tt/2sQjdJG


See More

 
Top