उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की और से एक टेस्ट गुरुवार को आयोजित हुआ जिसमे पूछे गये प्रश्न थे योगी आदिथायनाथ सरकार की असफलता क्या है? मनमोहन सिंह सरकार की सफलता क्या थी? कितनी विधानसभा सीटो से कितनी लोगसभा सीटों बनती है? ये कुछ वह सवाल है जो कांग्रेस की ओर से उत्तर प्रदेश का प्रवक्ता बनाने के लिए लिखित परीक्षा में पूछे गए थे करीब 70 लोगों ने ये परीक्षा दी.

यह पूरा टेस्ट पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी और राष्ट्रीय मीडिया को-आर्डिनेटर राहुल गुप्ता की देखरेख में हुआ. उम्मीदवारों के लिए टेस्ट चौंकाने वाला रहा क्योंकि गुरूवार को उन्हें पहले से नहीं बताया गया था. वहीं उन्हें सिर्फ यह बताया गया था कि गुरूवार को एक महत्वपूर्ण मीटिंग है.

प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा, ऐसे टेस्ट नए नहीं हैं और यह कांग्रेस में होता रहा है. अब हम यूपी में भी इसी तरह का टेस्ट कर रहे हैं. यह कहना गलत होगा कि टेस्ट में मुश्किल प्रश्न पूछे गए थे. ये बुनियादी प्रश्न हैं जिसका एक प्रवक्ता को जवाब आना चाहिए. पीसीसी की नई मीडिया टीम एआईसीसी मीडिया टीम की तरह काम करेगी.

टेस्ट में पूछे गए कुछ प्रश्नों पर एक नजर डालें:

-उत्तर प्रदेश में कितने ब्लॉक और क्षेत्र हैं?

-लोकसभा चुनाव में यूपी में कितने सीटें आरक्षित हैं?

-2004 और 2009 में कांग्रेस ने कितनी सीटें जीतीं?

– 2014 लोकसभा और 2017 विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को वोट शेयर का प्रतिशत क्या था?

– यूपी में कितनी लोकसभा और विधानसभा सीटें हैं?

– यूपी में कितनी असेंबली सीटें, एक लोकसभा सीट बनाती हैं?

– नियमों के मुताबिक कितने लोकसभा सीटों कम या ज्यादा विधानसभा सीटें हो सकती हैं?

– योगी आदित्यनाथ सरकार की विफलता के प्रमुख मुद्दे क्या हैं?

– मनमोहन सिंह सरकार की उपलब्धियां क्या थीं?

– आज तीन मुख्य खबरें क्या हैं जिन पर कांग्रेस के प्रवक्ता बयान जारी कर सकते हैं?



https://ift.tt/2N6kdBY


See More

 
Top