उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की एक महिला टीचर से बहस के बाद से मुश्किलें बढ़ती जा रही है। सभी जगह मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अलोचना हो रही है। 

ऐसे में एक आरटीआई ने त्रिवेंद्र सिंह रावत की मुश्किलें और बढ़ा दी है। इस आरटीआई से खुलासा हुआ है कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की पत्नी सुनिता रावत देहरादून के अजबपुर कलां में 1996 से पढ़ा रही हैं।

 

2008 में सुनिता रावत का प्रमोशन भी हुआ लेकिन वो अब भी वहीं पढ़ा रही हैं। इससे पहले 1992 में कफल्डी, स्वीत पौड़ी गढ़वाल में 4 महीने के लिए और बाद पौड़ी गढ़वाल के ही मैन्दोली स्थित स्कूल में पढ़ाया।

 

दरअसल, महिला जब मुख्यमंत्री से तबादले की गुहार लगा रही थी तो त्रिवेंद्र सिंह रावत ने महिला से कहा था कि मेरी पत्नी भी दुर्गम जगह पर और मुझसे दूर रह कर पढ़ा रही है। 

 

उसके बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने शिक्षिका को संस्पेंड कर दिया है। वहीं उत्तराखंड विद्यालय शिक्षा की सचिव भूपिंदर कौर ओलख ने तर्क दिया कि उन्हें इसलिए निलंबित कर दिया गया है क्योंकि उसने एक शिक्षक के रुप में शिष्टाचार के नियमों का उल्लंघन किया है। इसकी जांच की जाएगी।

 

इसे भी पढ़ेंः केंद्रीय मंत्री ने पीएम मोदी को बताया 'टाइगर', विपक्षी दलों को कहा-कौआ, बंदर और लोमड़ी हो रहे हैं एकजुट

 

सचिव भूपिंदर कौर ओलख ने  कहा कि उनका केवल जिले के भीतर ही स्थानांतरण किया जा सकता है। उनकी मांग है कि अंतर जिला स्थानांतरण के तहत उनका देहरादून में स्थानांतरण (Transfer) किया जाए, लेकिन इस समय अधिनियम में यह अनुमति नहीं है।  



from https://ift.tt/2N8HWS6


See More

 
Top