नैनीताल- आयुक्त कुमाऊं मंडल राजीव रौतेला ने मंडल भर के जिलाधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये दो तरफा संवाद कायम कर आपदा प्रबन्ध की जानकारी हासिल की. राजीव रौतेला ने कहा कि मौसम विभाग के अलर्ट के चलते भारी वर्षा की चेतावनियां भी जारी की जा रही हैं। रौतेला ने जिलाधिकारियों से कहा कि कुुमाऊं में बागेश्वर व पिथौरागढ़ को छोडक़र अन्य जिलों में ज्यादा बारिश दर्ज नहीं हुई है। मानसून की शुरुआत हुई है, हम सभी को मानसून काल में दैवीय आपदा प्रबंधन के लिए तैयार रहना होगा। रौतेला ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि मण्डल के सभी अधिकारियों व कर्मचारियों के अवकाश सितम्बर तक निरस्त कर दिये गये हैं। कोई भी बिना अनुमति के मुख्यालय न छोड़े।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण स्तर पर ग्राम प्रधानों व स्थानीय लोगों की समितियां बनाकर उन्हें सक्रिय किया जाये। जिला मुख्यालय और तहसीलों में बनाए गए कन्ट्रोल रूम स्टाफ की तैनाती के साथ ही सक्रिय रखे जायें। सभी जिलाधिकारी मानसून काल में गोदामों एवं सस्ता गन्ना विक्रेताओं के यहां खाद्यान्न की व्यवस्था सुनिश्चित कर लें।

अपने-अपने जनपदों में छोटी-छोटी मॉक ड्रिल भी आयोजित करने के निर्देश

उन्होंने मंडल के सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि वे अपने-अपने जनपदों में छोटी-छोटी मॉक ड्रिल भी आयोजित करें ताकि आपदा प्रबन्धन व अधिकारियों एवं कर्मचारियों की तत्परता का मूल्यांकन हो सके। उन्होंने मण्डल के पर्वतीय क्षेत्रों के जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि वर्षाकाल के दौरान सभी प्रकार की ट्रेकिंग एवं यात्राओं को कार्यक्रमों को स्थगित रखा जाये। आयुक्त ने वीसी के दौरान प्रबन्ध निदेशक कुमंविनि धीराज गब्र्याल ने बताया कि प्रदेश सरकार से चार चॉपरों की व्यवस्था की जानी होगी ताकि यात्रियों को सकुशल निकाला जा सके।

आयुक्त ने कहा कि इस सम्बन्ध में वे मुख्य सचिव से वार्ता करेंगे। वीसी में मुख्य वन संरक्षक कुमाऊं कपिल जोशी ने बताया कि वर्षा के कारण जो पेड़ गधेरों व नदियों में गिर गये हैं, उनके कटान की अनुमति जारी कर दी गयी है। पेड़ों का कटान कर उन्हें वन निगम के सुपुर्द कर दिया जायेगा। जोशी ने सभी प्रभागीय वनाधिकारियों से कहा कि वह वन चौकियों में नियमित खाद्यान्न के अलावा अतिरिक्त खाद्यान्न की व्यवस्था रखें ताकि आपदा के समय खाद्यान्न का उपयोग किया जा सके। वीसी में जिलाधिकारी डा. अहमद इकबाल, महाप्रबन्धक जल संस्थान एचके पाण्डेय, मुख्य अभियन्ता एनएच डीएस नबियाल, मुख्य अभियन्ता लोनिवि केपी जोशी, मुख्य अभियन्ता पीएमजीएसवाई अयाज अहमद के अलावा सभी जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मौजूद थे।

भारी वर्षा में रपटों पर रोकें आवागमन

वीसी के दौरान आयुक्त ने डीएम विनोद कुमार सुमन तथा डॉ. नीरज खैरवाल को निर्देश दिये कि पहाड़ों पर वर्षा के बाद तराई व भावर की नदियों में अनायास जल वृद्धि हो जाती है। लोग सडक़ों पर बने रपटों में पानी के बहाव के दौरान अपने वाहन निकालने का दु:साहस करते हैं और दुर्घटनाएं होती हैं। ऐसे रपटों पर चेतावनीयुक्त साइनेज लगाये जायें तथा रपटों पर पुलिस बल भी तैनात कर रोड बैरियर लगाकर आवागमन को रोका जाये। उन्होंने जिलाधिकारियों से कहा कि नदियों के किनारे खतरे की जद में जो लोग रह रहे हैं उन्हें सरकारी भवनों, स्कूलों आदि में शिफ्ट किया जाये तथा भोजन की भी व्यवस्था की जाये।



https://ift.tt/2OaBGtA


See More

 
Top