देहरादून। उत्तराखंड में राज्य कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है। सोमवार की सुबह हाजिरी लगे के बाद उत्तराखंड कार्मिक, शिक्षक और आउटसोर्सिंग से लगे कर्मचारी कार्य बहिष्कार पर चले गए। परेड ग्राउंड में कर्मचारियों ने संयुक्त मोर्चा के बैनर तले अनिश्चितकालीन धरना भी शुरु कर दिया है।

कर्मचारियों का यह आंदोलन पूरे प्रदेश भर में आरंभ हो गया है। प्रदेश के करीब 27 विभागों के कार्मिक अपनी 13 सूत्री मांगों को लेकर पिछले चार माह से आंदोलनरत हैं।

कर्माचारियों का आरोप है कि सीएम से लेकर सीएस तक ने उन्हें सिर्फ आश्वासन दिया है। मांगों के संबंध में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

मोर्चा के मुख्य संयोजक ठाकुर प्रह्लाद सिंह ने कहा कि यह आंदोलन सरकार को वायदे को याद दिलाने के लिए है। यदि सरकार ने मांग नहीं मानी तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। इस मौके पर मोर्चे ने सरकार के खिलाफ नारेबाजे करते हुए वायदों से मुकरने का आरोप लगाया।

वहीं कर्मचारियों की हड़ताल को लेकर सरकार के प्रवक्ता मदन कौशिक ने दावा किया है कि जल्द ही समस्याओं को सुलझा लिया जाएगा। मदन कौशिक ने दावा किया है कि सीमित संशाधनों में सातवां वेतनमान देने वाला उत्तराखंड देश के चुनिंदा राज्यों में शामिल है। लिहाजा कर्मचारियों को ये बातें समझनी चाहिए।





See More

 
Top