देहरादून-शुक्रवार को देहरादून की टी स्टेट नहर में दो हैंड ग्रेनेड मिलने के बाद शनिवार को एक बार फिर दो ग्रेनेड मिलने से हड़कंप मच गया है। जानकारी के मुताबिक देहरादून के वसंत बिहार में फिर से 2 हैंड ग्रेनेड मिले हैं। हैंड ग्रेनेड बनियावाला इलाके में मिले है। जो कि कहीं से बहकर आए हैं। बता दें कि शनिवार को भी इसी इलाके में एक नहर में दो हैंड ग्रेनेड मिले थे।

पुलिस और बीडीएस यूनिट मौके पर पहुंच गई हैं। एसओ वसंत बिहार हेमंत खंडूडी ने बताया कि अभी जांच जारी है। अफसरों को इस मामले में सूचित किया गया है।

शुक्रवार को भी मिले थे दो ग्रेनेड

आपको बता दें शुक्रवार को भी नहर में दो हैंड ग्रेनेड मिलने से हड़कंप मच गया था। देखते ही देखते वहां लोगों की भीड़ लग गई और आसपास किसी संदिग्ध व्यक्ति के होने की चर्चाएं शुरू हो गईं। इसी बीच मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थिति को संभाला और बम निरोधक दस्ते ने दोनों हैंड ग्रेनेड की जांच की।

दोनों बम थे डिफ्यूज

हालांकि दोनो ग्रेनेड पहले से डिफ्यूज थे। इस बात को सुनकर सभी ने राहत की सांस ली। हालांकि अभी तक इस बात का पता नहीं चल सका है कि ये ग्रेनेड यहां कैसे आए। वसंत विहार थाना क्षेत्र के बनियावाला से किसी ने पुलिस कंट्रोल रूम को नहर में हैंड ग्रेनेड पड़े होने की सूचना दी थी। ग्रेनेड कीचड़ में पड़े थे। सूचना के बाद एसओ वसंत विहार हेमंत खंडूरी मय फोर्स मौके पर पहुंच गए।

पुलिस ने इस बारे में भारतीय सैन्य अकादमी और सैन्य छावनी के अधिकारियों को भी सूचना दी। कुछ देर बाद सेना के कुछ अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। बम निरोधक दस्ते की जांच में पता चला कि हैंड ग्रेनेड में डेटोनेटर और फ्यूज नहीं थे। लिहाजा ये सिर्फ खोखे ही कहे जा सकते हैं। एसओ हेमंत खंडूरी ने बताया कि बम निरोधक दस्ते के मुताबिक हैंड ग्रेनेड काफी पुराने हैं। शायद यह ग्रेनेड डेमो के लिए होंगे। हालांकि, इस बात की पुष्टि सैन्य अधिकारियों ने भी नहीं की है कि ये ग्रेनेड सेना के हैं या नहीं। एसओ खंडूरी ने बताया कि पुलिस इस बात की जांच कर रही है। फिलहाल इस बात की भी जांच की जा रही है कि यहां कोई संदिग्ध गतिविधि तो नहीं हो रही है। इसके लिए सत्यापन भी

क्षेत्र में पहले भी मिले ग्रेनेड

वसंत विहार के टी एस्टेट इलाके में हैंड ग्रेनेड मिलने का यह पहला मामला नहीं है। यहां अगस्त 2014 में हैंड ग्रेनेड कूड़े में पड़ा मिला था। उस वक्त भी जांच में आया था कि हैंड ग्रेनेड में डेटोनेटर और फ्यूज नहीं है। ऐसे में इस ग्रेनेड को भी डेमो ग्रेनेड बताया गया था, जो सैन्यकर्मियों के प्रशिक्षण के काम में आता है।





See More

 
Top