यूपी में पैसे लेकर एनकाउंटर करने के स्टिंग ऑपरेशन से यूपी पुलिस में हड़कंप मच गया है. डीजीपी ने पैसे लेकर फर्जी एनकाउंटर करने वाले स्टिंग के सामने आते ही आरोपी तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है. उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने तीन आरोपी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने के साथ ही मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं.

आगरा के एसएसपी अमित पाठक ने टेप पर निर्दोष नागरिकों के साथ फर्जी मुठभेड़ के लिए तैयार होने की बात कहने वाले तीन पुलिस अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने का ऐलान किया है. पाठक ने कहा, ‘मैं मानता हूं कि पुलिस फोर्स में कोई भी अपने निहित स्वार्थ के लिए कार्य मानदंडों के विपरीत जाता है और झूठे मामलों में निर्दोष नागरिकों को फंसाता है तो उसके साथ सख्ती से पेश आना चाहिए. साथ ही मामले की विभागीय जांच एडिशनल एसपी को दे दी है.

यूपी पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से इस बाबत जानकारी दी है. ट्वीट में लिखा गया है कि पुलिस महानिदेशक ने पुलिसकर्मियों के इस तरह के गैर-जिम्मेदाराना बयान को गंभीरता से लिया है जिससे यूपी पुलिस की छवि धूमिल हुई है.

सरकार के आंकड़ों के मुताबिक मार्च 2017 से अब तक उत्तर प्रदेश पुलिस की ओर से की गई करीब 1500 मुठभेड़ों में 400 के आसपास लोग घायल हुए हैं. एक चैनल द्वारा किए गए स्टिंग में सामने आया यूपी पुलिस के कुछ सदस्य झूठे मामलों में निर्दोष नागरिकों को फंसा रहे हैं और फिर उन्हें फर्जी मुठभेड़ों में शूट कर रहे हैं. ये सब तरक्की और दूसरों से पैसा लेकर किसी को ठिकाने लगाने के इरादे से किया जा रहा है.

साभार-तहलका इंडिया न्यूज़

 





See More

 
Top