बिहार के मुजफ्फरपुर नारी संरक्षण गृह का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि ऐसा ही एक और मामला उत्तर प्रदेश के देवरिया में देखने को मिल गया है. देवरिया के नारी संरक्षण गृह में भी देह व्यापार कराए जाने का खुलासा हुआ है.

रविवार 5 अगस्त को यूपी पुलिस को जब इस संरक्षण गृह से भाग कर आई एक लड़की ने जो बताया, उसे सुन पुलिस भी हैरान थे. पुलिस ने रात में ही संरक्षण गृह पर छापा मारा तो 42 में से 18 लड़कियां गायब मिलीं.

पुलिस ने 24 लड़कियों को वहां से आजाद करवा दिया है. मामले में कार्रवाई करते हुए संरक्षण गृह की संचालिका गिरिजा त्रिपाठी और उनके पति मोहन को गिरफ्तार कर लिया गया है.

पुलिस अधीक्षक रोहन पी कनय के मुताबिक, मां विंध्यवासिनी महिला एवं बालिका संरक्षण गृह नाम के एनजीओ की सूची में 42 लड़कियों के नाम दर्ज हैं. लेकिन पुलिस ने जब रविवार रात को छापा मारा तो 18 लड़कियां वहां से गायब मिली थी. उस वक्त संरक्षण गृह में सिर्फ 26 लड़कियां ही थी.

इस बीच महिला एवं बाल कल्याण विभाग की मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि पिछले साल सीबीआई ने शेल्टर होम की जांच की थी. यह साफ था कि देवरिया का यह शेल्टर होम गैर-कानूनी ढंग से चल रहा था.

इस तत्काल बंद करके वहां रह रही महिलाओं, लड़कियों और बच्चों को शिफ्ट करने के आदेश दिए गए थे लेकिन इस आदेश का पालन नहीं किया गया. संस्थान में कितने बच्चे, महिलाएं और लड़कियां रह रहे थे इसका भी कोई रेकॉर्ड वहां नहीं मिला है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. उन्होंने आगे कहा कि सीएम योगी ने आदेश दिया की देवरिया के डीएम को हटाया जाए

 





See More

 
Top