देहरादून-अब किराये पर ई रिक्शा चलवाया तो पंजीकरण रद्द कर उसे सीज कर दिया जाएगा। जिसके नाम से ई रिक्शा खरीदा गया है, उसे ही चलाना होगा। केंद्रीय परिवहन विभाग की इस गाइडलाइन को परिवहन विभाग सख्ती से लागू करने जा रहा है। इससे एक ओर ई रिक्शा से किरायेदारी का चलन खत्म होगा तो दूसरी ओर शहर में 200 से ज्यादा अवैध ई रिक्शों पर कार्रवाई होगी।

शहर के अंदर लोगों को यातायात की सुविधा देने के उद्देश्य से परिवहन विभाग ने करीब डेढ़ साल पहले शहर के मुख्य मार्गों को छोड़कर अन्य सड़कों पर ई रिक्शे का संचालन शुरू कराया था। देखते ही देखते इनकी संख्या में बढ़ती गई। वर्तमान में दून की सड़कों पर 1400 से अधिक ई रिक्शे दौड़ रहे हैं, लेकिन इनमें से 1200 ही आरटीओ में पंजीकृत हैं। जबकि, 200 से अधिक ई रिक्शे बिना पंजीकरण के चलाए जा रहे हैं। तमाम लोग ऐसे भी हैं, जिन्होंने अपने और परिजनों के नाम से एक से अधिक ई रिक्शा खरीद लिया है। कुछ ई रिक्शा चालक दबी जुबान में स्वीकार करते हैं कि वे इन्हें 300 रुपये रोजाना के किराये पर चल रहे हैं।

इसके अलावा किराये की दरें तय नहीं होने के कारण ई रिक्शा चालक यात्रियों से मनमाना किराया वसूल रहे हैं, लेकिन अब आरटीओ ने ई रिक्शा वालों की मनमानी पर लगाम लगाने की तैयारी कर ली है। इसके तहत सभी ई रिक्शों की जांच की जाएगी। लाइसेंसधारक ही ई रिक्शा चला सकते हैं। अगर जांच के दौरान कहीं भी ई रिक्शा किराये पर चलता पाया गया तो सीज कर उसका पंजीकरण रद्द कर दिया जाएगा। आरटीओ की ओर से मंगलवार से ओवरलोड ई रिक्शा के खिलाफ अभियान शुरू किया जाएगा।

यह है नियम

ई रिक्शे के लिए केंद्रीय परिवहन विभाग की ओर से जारी गाइडलाइन के अनुसार, जिस व्यक्ति को ई रिक्शा का लाइसेंस जारी किया जाएगा, वही उसे चलाएगा। अगर लाइसेंसधारक के अलावा कोई दूसरा व्यक्ति ई रिक्शा चलाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई का प्रावधान है। इसके तहत उसे बंद करने के साथ ही पंजीकरण रद्द कर रिक्शा सीज भी किया जा सकता है।

देहरादून आरटीओ डीसी पठोई का कहना है कि शहर में ई रिक्शा वालों की मनमानी नहीं चलेगी। जो भी ई रिक्शा नियमों का उल्लंघन करता पाया जाएगा, उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। ई रिक्शों की जांच के लिए विभाग की ओर से आज से अभियान शुरू किया जाएगा।





See More

 
Top