उत्तरकाशी : डुंडा तहसील में नाबालिग के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या की घटना से स्थानीय लोगों में आरोपितों और उनकी गिऱफ्तारी को लेकर गुस्सा है. गुस्साए लोग पुलिस प्रशासन से बस एक ही सवाल कर रहे हैं कि आरोपियों की गिरफ्तारी कब होगी. भले पुलिस ने 5 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है लेकिन अभी तक खाली हाथ है.

आईजी का वाहन भीड़ ने रोका

इसी के चलते घटना से गुस्साए लोगों ने जिला मुख्यालय में जमकर विरोध-प्रदर्शन किया। साथ ही सब्जी मंडी पहुंचकर फल और सब्जियों को सड़कों पर फेंककर आक्रोश जताया। रविवार दोपहर जिलामुख्यालय से डुंडा तहसील में घटना स्थल की ओर जा रहे गढ़वाल आइजी संजय गुंज्याल का वाहन भीड़ ने ज्ञानसू में रोककर जमकर नारेबाजी की। लोगों को समझाने के बाद आइजी संजय गुंज्याल का वाहन आगे बढ़ सका।

उसके बाद जमा भीड़ ने सड़कों पर रैली निकालकर विरोध जताते हुए ज्ञानसू से बस अड्डा पहुंचकर रैली ने राजमार्ग किनारे संचालित सब्जी मंड़ी में अपना आक्रोश जताया। इस दौरान आक्रोशित भीड़ ने सब्जी मंडी में बंद दुकानों मे तोड़फोड़ की।  मौके पर पहुंची ने बमुश्किल आक्रोशित भीड़ को शांत किया। इस दौरान पुलिस प्रशासन ने भीड़ को इधर-उधर भगाने को पुलिस बल प्रयोग भी किया। साथ ही इस दौरान इस दौरान पुलिस ने रैली में उपद्रव मचा रहे चार युवकों को हिरासत में लिया।

डीएम ने किया समझाने का प्रयास लेकिन भीड़ बेकाबूं

जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान ने काफी समझाने का प्रयास किया। बावजूद इसके आक्रोशित भीड़ शासन-प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करती रही। लेकिन लोगों की नारेबाजी नहीं थमी। इस दौरान भीड़ ने जिला प्रशासन से पुलिस बल के प्रयोग पर कड़ी नाराजगी जताई। जिस पर जिलाधिकारी ने अनभिज्ञता जताते हुए भीड़ से माफी मांगी

वहीं इस घटनाक्रम से मुख्यालय में रविवार को बाजार बंद रहा। इससे यातायात सुविधा पूरी तरह बाधित रही। बाजार बंद होने से लोगों को रोजमर्रा की चीजें फल, सब्जी, दूध, राशन आदि नहीं मिल पाया। यातायात सुविधा बंद होने से दूरस्थ ग्रामीणों से आने वाले और जाने वाले बुजुर्गो को सर्वाधिक परेशानी उठानी पड़ी। साथ ही गंगोत्रीधाम में आयोजित मुरारी बापू की राम कथा में शामिल होने वाले तीर्थयात्रियों को भी खासी दिक्कतें हुई। स्थानीय ग्रामीण और तीर्थयात्रियों ने कहा कि डुंडा तहसील में घटित घटना से वह काफी आहत हुए हैं। उनका दुख पीड़ित परिवार के लिए हमेशा रहेगा।

गौर हो कि शुक्रवार को 12 साल की बच्ची को घर से उठाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया और उसकी हत्या कर शव पुल पर फेंक दिया जिसके बाद पुलिस ने थत्यूड़ से 4 संदिग्धों को गिऱफ्तार किया लेकिन नतीजे तक नहीं पहुंची.





See More

 
Top