अल्मोड़ा : भारत और अमेरिका के बीच अब तक के सबसे बड़े संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास ‘युद्ध अभ्यास-2018’ का रविवार को चौबटिया छावनी में भव्य उद्घाटन समारोह के साथ शानदार आगाज हुआ। भारत के ‘जन-गण-मन’ और अमेरिकी राष्ट्रगान ‘द स्टार स्पंगल्ड बैनर’ के साथ दोनों देशों के ध्वज फहराए गए। फ्लैग मार्च के बाद संयुक्त सेनाओं ने शानदार मार्चपास्ट कर सलामी दी। 29 सितंबर तक चलने वाले युद्धाभ्यास में भारत की ओर से सूर्य कमांड

शानदार मार्चपास्ट कर अधिकारियों को सलामी दी

भारत-अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रक्षा सहयोग के तहत 14वें संस्करण के ‘युद्ध अभ्यास-2018’ के नाम से सेना की मध्य कमान मुख्यालय की ओर से आयोजित संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास का रविवार को चौबटिया के गरुड़ मैदान में भव्य उद्घाटन हुआ। मैत्री द्वार से निकली दोनों देशों की सेनाओं ने फ्लैग मार्च के बाद शानदार मार्चपास्ट कर अधिकारियों को सलामी दी। सेना के बैंड की ‘कदम-कदम बढ़ाए जा खुशी के गीत गाए जा, ये जिंदगी है कौम की तू कौम पे लुटाए जा’, स्वर लहरियों के बीच दोनों देशों की सेनाओं ने परेड कमांडर कर्नल एसवी चेरियन के नेतृत्व में शानदार मार्चपास्ट किया। भारतीय सेना का नेतृत्व कर रहे मेजर जनरल कविंद्र सिंह व उनके अमेरिकी समकक्ष मेजर जनरल विलियम ग्राहम ने संयुक्त रूप से परेड का निरीक्षण किया।

उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए भारतीय सेना के मेजर जनरल कविंद्र सिंह ने चीफ ऑफ द आर्मी स्टाफ व कांगो ब्रिगेड की ओर से अमेरिकी अधिकारियों, सैनिकों का स्वागत किया। संबोधन में भारत-अमेरिका के सैन्य अधिकारियों ने दो लोकतांत्रिक देशों के इस संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास को कई मायनों में महत्वपूर्ण बताया।

भारत की ओर से कांगो ब्रिगेड, गरुड़ डिवीजन व सूर्य कमान की एक बटालियन

भारत की ओर से कांगो ब्रिगेड, गरुड़ डिवीजन व सूर्य कमान की एक बटालियन, जबकि अमेरिका की तरफ से 1 इंफैंट्री बटालियन, 23 इंफैंट्री रेजीमेंट, 2 स्ट्राइकर ब्रिगेड, काम्बैट टीम व 7 इंफैंट्री डिवीजन की एक कंपनी युद्धाभ्यास में भाग ले रही है।

दोनों ही देशों के 350-350 अधिकारी, जवान युद्धाभ्यास में शामिल हैं

दोनों ही देशों के 350-350 अधिकारी, जवान युद्धाभ्यास में शामिल हैं। उद्घाटन कार्यक्रम के बाद दोनों देशों के अधिकारियों, सैनिकों ने एक-दूसरे से मिलकर विचार साझा किए। इस मौके पर 99 पर्वतीय ब्रिगेड के कमांडेंट ब्रिगेडियर विजय काला, अमेरिका के कर्नल गैरी हॉल सहित सैन्य अधिकारी व जवान मौजूद रहे।

आतंकवाद से निपटने में मील का पत्थर साबित होगा युद्धाभ्यास

युद्धाभ्यास के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए अमेरिका के मेजर जनरल विलियम ग्राहम ने कहा कि युद्ध अभ्यास-2018 को पहली बार डिवीजन स्तर तक बढ़ाया गया है, जो भारत-अमेरिका द्विपक्षीय रक्षा सहयोग व संबंधों में लगातार प्रगाढ़ता का भी परिचायक है। कहा कि दोनों देशों की सेनाओं के पास बेहतरीन अनुभव हैं। युद्धाभ्यास से दोनों देशों के सैनिक उच्चतम कोटि की युद्ध तकनीकें हासिल करेंगे। 21वीं सदी में वैश्विक आतंकवाद सहित विभिन्न चुनौतियों से निपटने में युद्धाभ्यास मील का पत्थर साबित होगा।





See More

 
Top