देहरादून : एनआईईपीवीडी में नाबालिग छात्रा से छेड़छाड़ का मामला अभी ठंडा नहीं पड़ा था कि संस्थान में एक और दृष्टिबाधित छात्रा के शारीरिक उत्पीड़न की बात सामने आई है।

उत्पीड़न का आरोप साथी छात्र पर ही है। इस बार भी मामले में संस्थान का संवेदनहीन रवैया देखने को मिला है। छात्रा के साथ महीनों से हो रहे उत्पीड़न की कई बार प्रबंधन से शिकायत की गई, मगर इस मामले को भी पहले की तरह दबाने की कोशिश होता रहा। इस बीच शुक्रवार को बाल आयोग की टीम संस्थान पहुंची तो छात्रा ने आपबीती सुनाई। आयोग के निर्देश पर राजपुर थाने में आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

तीन माह पहले एक कार्यक्रम के दौरान भी छात्र ने उससे छेड़छाड़ और अभद्रता की

एसएसपी निवेदिता कुकरेती के आदेश के बाद शनिवार को एसओ राजपुर अरविंद चौधरी और महिला अधिकारियों ने छात्रा से मामले की जानकारी ली। पता चला कि मूल रूप से टिहरी की रहने वाली छात्रा यहां उच्च शिक्षा प्राप्त कर रही है। आरोपी छात्र भी उसी के साथ पढ़ता है। छात्र दृष्टिबाधित नहीं है, लिहाजा उसने इसका फायदा उठाते हुए छात्रा से कई बार छेड़छाड़ की। आरोप है कि विरोध करने पर छात्र मारपीट भी करता था। करीब तीन माह पहले एक कार्यक्रम के दौरान भी छात्र ने उससे छेड़छाड़ और अभद्रता की।

कई बार इसकी शिकायत प्रिंसिपल और अन्य अधिकारियों से की, मगर सुनवाई नहीं

पुलिस के अनुसार पीड़ित छात्रा ने कई बार इसकी शिकायत प्रिंसिपल और अन्य अधिकारियों से की, मगर सुनवाई नहीं हुई। बार-बार शिकायत के बाद भी मामले में कोई संज्ञान नहीं लिया गया।

शुक्रवार को बाल आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी संस्थान में व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंची थीं। इसी बीच पीड़ित छात्रा एकाएक उनके सामने आकर रोने लगी। नेगी ने जब कारण पूछा तो उसने अपने साथ हुई एक एक घटना बताई। एसओ राजपुर ने बताया कि छात्रा की शिकायत के बाद प्रभारी निदेशक डॉ. गीतिका माथुर से भी जानकारी ली गई है। उनकी सहमति के बाद ही छात्रा से तहरीर लेकर आरोपी राकेश रावत के खिलाफ छेड़छाड़, मारपीट, गाली गलौज और जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है। फिलहाल, छात्र संस्थान से गायब बताया जा रहा है।

आरोपी छात्र एक छात्र संगठन से ताल्लुक रखता है

बताया जा रहा है कि आरोपी छात्र एक छात्र संगठन से ताल्लुक रखता है। उसने शुक्रवार को भी छात्रा को झूठी बात कहते हुए अपने पास बुलाया था। छात्रा ने जब इसका विरोध किया तो छात्र ने उसके साथ मारपीट की। आरोप है कि छात्र ने पीड़िता को जान से मारने की धमकी भी दी।

बता दें कि बीते 14 अगस्त को संस्थान के अंतर्गत एमएसवीएच के छात्र-छात्राओं ने संस्थान की व्यवस्थाओं के खिलाफ आंदोलन किया था। छात्रों ने लगभग सात दिनों तक गेट पर कब्जा जमाए रखा। छात्र-छात्राओं ने स्कूल के म्यूजिक टीचर सुचित नारंग पर छात्राओं से छेड़छाड़ का आरोप लगाया था। मामला बढ़ा तो राज्यमंत्री रेखा आर्य ने इसका संज्ञान लिया और तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए। इसके बाद सुचित नारंग के खिलाफ राजपुर थाने में गत 18 अगस्त को मुकदमा दर्ज कर किया गया, लेकिन पुलिस अभी तक आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।





See More

 
Top