बसानी गांव में जाते समय बाइक समेत सवार जीजा-साले बरसाती नाले में बह गए. हादसे में दोनों की मौत हो गई. परिजनों की खोजबीन में शुक्रवार सुबह पहले साले और फिर जीजा का शव नाले से बरामद हुआ. दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी लाया गया है. वहीं जीजा-साले की मौत से दोनों घरों में कोहराम मच गया है.

बसानी गांव में रहने वाला दीप चंद्र (28) पुत्र सतीश चंद्र टेढ़ी पुलिया स्थित एक मोबाइल की दुकान में नौकरी करता था. जबकि डहरिया निवासी उसका साला अमित (22) पुत्र तरूण कुमार भी तिकोनिया स्थित मोबाइल की दुकान में काम करता था. गुरुवार रात करीब साढ़े आठ बजे दोनों बाइक से बसानी को जा रहे थे. फतेहपुर से एक किलोमीटर अंदर भाखड़ा में मिलने वाले बरसाती नाले में दोनों बाइक समेत बह गए. रात में दोनों के नंबर बंद जाने पर चिंतित परिजनों ने तलाश शुरू की. पुलिस को भी सूचित कर दिया गया.

शुक्रवार को भोर होने पर पुलिस के साथ ही परिजनों व ग्रामीणों ने नाले में बहने का शक होने पर तलाशा. करीब आठ बजे अमित का शव व बाइक मिल गई. जीजा दीप चंद्र के भी नाले में बहने के शक पर नाले में सर्च अभियान चलाया गया. करीब आधा घंटे बाद ही दीप चंद्र का शव भी मिल गया. मुखानी थानाध्यक्ष नंदन सिंह रावत ने बताया कि दोनों शवों की पहचान परिजनों ने कर ली है. शवों को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी भिजवाया गया है. वहीं दोनों की मौत से परिवारों में मातम छा गया है. नाते-रिश्तेदारों के साथ ही ग्रामीणों की भीड़ उनके घर और मोर्चरी में जुटी है.





See More

 
Top