दून अंतरराष्ट्रीय पशु एवं कृषि मेले में गोबर से बने गमलों की प्रदर्शनी लगाई गई है. गोबर से खाद और बायो गैस बनाने के बारे में आपने सुना ही होगा, अब गोबर का गमला और अगरबत्ती मच्छर भगाने के लिए बनाने का भी इस्तेमाल किया जा रहा है.

गोबर के गमले बनाने का मुख्य उद्देश्य नर्सरी में पौधे लगाने पर प्लास्टिक के प्रयोग को खत्म करना है. जो कमाई का भी एक साधन बन रहा है. गोबर के गमलों में लगे फूल घरों की सुंदरता में चार चांद लगाने का काम करेंगे.

वातावरण प्रदूषित होने से बचेगा. साथ ही पौधे की जड़े भी खराब होने से बच सकेंगी.उन्होंने बताया कि गोबर, लकड़ी के बुरादे और भूसे से गमले को मशीन में तैयार किया जाता है. जिसे बनने में लगभग 48 घंटे का समय लगता है.

गोबर के गमले से पशुपालकों को रोजगार मिलेगा. गोबर में लैकमड मिलाकर अगरबत्ती बनाई जा रही है जिससे मच्छर भगाने का काम किया जाता है.





See More

 
Top