तितली तूफान से निपटने के लिए ओडिशा सरकार युद्ध स्तर पर तैयारी में जुट गई है. तूफान 11 अक्टूबर को ओडिशा तट से गुजरने की आशंका है. भारतीय मौसम विज्ञान-विभाग (आईएफडी) के अनुसार, बंगाल की खाड़ी के ऊपर बने गहरे दबाव का क्षेत्र अगले 24 घंटे में चक्रवाती तूफान का रूप ले लेगा और 11 अक्टूबर को सुबह गोपालपुर और कलिंगपत्तनम के बीच ओडिशा और उत्तर आंध्रप्रदेश के तट को पार करेगा.

तूफानी हवाओं की गति 110 से 125 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है. जिले के सभी स्कूल-कॉलेजों में तीन दिन के लिए छुट्टी घोषित कर दी गई है.

मछुआरों को 9 से 12 अक्टूबर तक बंगाल की खाड़ी के गहरे समुद्री इलाकों में जाने से रोक दिया है. क्योंकि समुद्री हालात खराब हो सकते है. दक्षिणी ओडिशा तट के कुछ इलाकों में मंगलवार को बारिश शुरू हो गई है

जिलों में 6 एनडीआरएफ, 11 ओड्राफ (ओडिशा डिजास्टर रेस्क्यू फोर्स) टीम को तैनात किया जाएगा. निचले इलाके में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

झारखंड में दिखेगा असर
ओडिशा में दस्तक दे रहे चक्रवाती तूफान तितली का साया झारखंड पर भी मंडरा रहा है. मौसम विभाग के अनुसार झारखंड के दक्षिण-पूर्व क्षेत्र में इसका असर दिखेगा.





See More

 
Top