हरिद्वार : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने राममंदिर पर बयान देते हुए कहा है कि विपक्षी पार्टियां खुलेआम अयोध्या में राम मंदिर बनाने का विरोध नहीं कर सकती। पतंजलि योगपीठ में आयोजित अपने एक कार्यक्रम में भागवत ने आगे कहा कि राम देश के बहुसंख्यकों के पूजनीय हैं। साधु और संत ऐसी सीमाओं से परे हैं और उन्हें धर्म, देश और समाज के उत्थान के लिए कार्य करना चाहिए। विपक्षी पार्टियों को लेकर उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टियां भी अयोध्या में राम मंदिर का खुलकर विरोध नहीं कर सकतीं क्योंकि उन्हें मालूम है कि भगवान राम बहुसंख्यक भारतीयों के ईष्टदेव हैं। इसी को लेकर अब संतो ने भी राम मन्दिर पर बयान का समर्थन किया है. वहीं विवादों से हमेशा घिरे कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने कहा की समाज का निर्णय से सब संभव है.

राम मंदिर के निर्णय को लेकर हो रही सियासत ने उतरप्रदेश सहित पूरे देश में माहौल गर्म है. बीजेपी इस मुद्दे को हवा देने में लगी है. वहीं विपक्षी पार्टियां भी इस पर अपनी राजनीती करने से बाज़ नहीं आती. एक बार फिर मोहन भागवत ने बाबा रामदेव के सामने राम मंदिर पर बयान देकर हलचल पैदा कर दी है जिसमे संतो द्वारा जल्द राम मंदिर बनने की मांग उठना लाज़मी है. हरिद्वार में गोल्डन बाबा ने कहा की कार सेवा के दौरान पहली ईंट वो लगाएंगे.

राम मंदिर बनकर रहेगा- चैंपियन

ऊतराखंड की राजनीति में हमेशा विवाद में रहने वाले हरिद्वार के लक्सर विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने कहा की हर सरकार की कुछ सीमाएं होती हैं और उसकी आधार पर उनको काम करना पड़ता है। और जनता के आगे कोई सरकार का वजूद नहीं है. अगर लोगों ने मन बना लिया तो राम मंदिर बनकर रहेगा. वहीं पहले कांग्रेस के सिपाही रहे चैंपियन उन्ही पर जमकर बरसे कहा की मनमोहन सिंह हमेशा विदेशों में सर झुकाकर मिलते थे.

राम मंदिर का मामला कोर्ट में है, बरसों के प्रयासों और बलिदान के बाद संतो और आरएसएस को राम मंदिर का निर्माण अब संभव लग रहा है। बड़ा सवाल ये खड़ा होता है की चुनाव नज़दीक आते ही क्यों इसपर बयानबाज़ी शुरू हो जाती है.





See More

 
Top