हरिद्वार : आज लक्सर में तहसील प्रशासन और नगर पालिका प्रशासन ने मिलकर सामूहिक रूप से लक्सर के मेन बाजार में अतिक्रमण को लेकर चिन्हीकरण किया. इस दौरान प्रशासनिक अधकारियों को दुकानदारों का विरोध झेलना पड़ा. दुकानदार और प्रशासन आमने-सामने आ गए लेकिन लक्सर एसडीएम की सूझबूझ के चलते अतिक्रमण के कार्य में बहुत ज्यादा बाधा नहीं हुई. हालांकि चिन्हीकरण का कार्य पूरा नहीं किया जा सका है.

हम टैक्स दे रहे हैं, पहले टैक्स वापस करे नगरपालिका

अतिक्रमण को चिन्हिकरण पर दुकानदारों का कहना है कि लोगों को परेशान करने के लिए ये सब काम किया जा रहा है. दुकानदारों का कहना है कि जिन दुकानों को प्रशासन अतिक्रमण में बता रहा है वह दुकान पिछले 70 सालों से बनी हैं और हम सब नगरपालिका को इनका टैक्स दे रहे हैं, अगर यह अतिक्रमण में हैं तो नगरपालिका हमसे इनका टैक्स क्यों वसूल रही है. जिन दुकानों का नगर पालिका टैक्स वसूल रही है अगर वह अतिक्रमण में है तो नगरपालिका हम से वसूला गया टैक्स वापस करें 70 साल से लक्सर प्रशासन क्या कुंभकरण की नींद सोया हुआ था? क्या उसे पहले यह दुकाने अतिक्रमण में दिखाई नहीं दी? लक्सर प्रशासन जानबूझकर लोगों को परेशान कर रहा है जिसका हम अंत तक विरोध करेंगे.

अतिक्रमण हर हाल में हटाया जाएगा

नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी मोहम्मद गौहर हयात ने बताया कि मेन मार्केट के बीच का यह रास्ता 40 फुट चौड़ा है जिसे पूर्व रूप दिया जाएगा. इसके लिए प्रथम चरण में आज चिन्हीकरण किया जा रहा है. अतिक्रमण हर हाल में हटाया जाएगा और माननीय न्यायालय के आदेश का पालन हर हाल में किया जाएगा

लक्सर एसडीएम कौस्तुभ मिश्रा का बयान

मौके पर पहुंचे लक्सर एसडीएम कौस्तुभ मिश्रा ने कहा कि आज अतिक्रमण को लेकर जो चिन्हीकरण किया जा रहा है यह कार्य केवल नालियों तक ही किया जाएगा. इसमें किसी भी दुकान को हानि नहीं पहुंचाई जाएगी नाली के ऊपर बनाई गई स्लैब तोड़े जाएंगे और बाकी यथा स्थिति बनी रहेगी.

दोनों अधिकारियों का अपना-अपना कहना

अतिक्रमण का चिन्हीकरण का कार्यक्रम में पहुंचे दोनों ही अधिकारी अलग अलग बात कर रहे हैं. ऐसे में दुकानदारों की तो क्या आम आदमी के भी मन में शंका पैदा होना लाजमी है. दोनों ही अपने आप में जिम्मेदार अधिकारी हैं. ऐसा लगता है कि अतिक्रमण का चिन्हीकरण करने से पहले अधिकारियों ने आपस में बातचीत ना की हो और इस कार्य को करने के लिए पहले से ही कोई रणनीति तैयार ना की गई हो. दोनों अधिकारियों का अपना-अपना कहना है.

बड़ा सवाल किस अधिकारी की बात को सही माने

अब सवाल यह उठता है कि ऐसे में किस अधिकारी की बात को सही माने अतिक्रमण हटाया जाएगा या नहीं हटाया जाएगा लक्सर नगर की संकरी हुई सड़क को वास्तव में पूर्व रूप दिया जाएगा या फिर केवल नालियों से ही अतिक्रमण हटाया जाएगा ऐसे में आम जनता किसकी बात पर विश्वास करें ऐसा लगता है कि दुकानदारों की बात अपनी जगह सही है कहीं ऐसा तो नहीं कि लक्सर प्रशासन लक्सर दुकानदारों को जानबूझकर परेशान कर रहा हो अगर ऐसा नहीं है तो दोनों अधिकारी अलग अलग बात क्यों कर रहे हैं





See More

 
Top