पाकिस्तान सेना प्रमुख को गले लगाने को लेकर विवादों में आए नवजोत सिंह सिद्धू का पड़ोसी देश पाकिस्तान का मोह नहीं छूट रहा है। अपने विवादित बयानों के लिए चर्चाओं ने रहने वाले सिद्धू एक बार फिर चर्चा में आ गए हैं. खुशवंत सिंह लिटफेस्ट के लिए शुक्रवार को कसौली पहुंचे सिद्धू ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है।

उन्होंने पाकिस्तान की यात्रा को कई मायनों में दक्षिण भारत से बेहतर करार दिया। नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि ‘पाकिस्तान में न भाषा बदलती है और न ही लोग बदलते हैं। जबकि दक्षिण भारत में जाने पर भाषा से लेकर खानपान तक सब कुछ बदल जाता है।

पाक सेना प्रमुख को गले लगाने का राज भी अपने अंदाज में खोला

शपथ ग्रहण समारोह के दौरान पाक सेना प्रमुख को गले लगाने का राज भी अपने अंदाज में खोला। उन्होंने कहा कि यह झप्पी राफेल डील की तरह नियोजित नहीं थी। यह सब कुछ अचानक ही हुआ। बातचीत के दौरान पाकिस्तान सेना प्रमुख ने सिखों के तीर्थस्थल करतारपुर साहिब कॉरिडोर को खोलने की बात कही। इसके बाद वे अपने आप को रोक नहीं पाए और उन्हें गले लगा लिया।

सिखों के लिए यह कॉरिडोर खुलना एक सपना है। जब कराची और मुंबई के बीच व्यापार संधि हो सकती है तो अमृतसर और लाहौर के बीच ये दूरियां भी मिट जानी चाहिए। सिद्धू ने लिटफेस्ट की शुरुआत शायराना अंदाज में ‘सरकारें ताउम्र यही भूल करती रहीं, धूल चेहरे पर थी और आईना साफ करती रहीं’ से की।





See More

 
Top