अल्मोड़ा में मानसिक रूप से दिव्यांग महिला के साथ दुष्कर्म मामले में आरोपी को न्यायालय के द्वारा आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई. इसके साथ ही उसे 10 हजार रुपए के जुर्माने की भी सजा सुनाई गई. जानकारी के अनुसार, मानसिक रूप से कमजोर महिला का 18 साल पहले दिव्यांग युवक के साथ विवाह हुआ था.

इसके बाद महिला ने दिसंबर 2017 में मायके आकर अपनी मां को बताया कि उसके साथ रानीखेत तहसील के डोल गांव निवासी खुशाल सिंह ने दुष्कर्म किया, जिससे वह गर्भवती हो गई. महिला ने एक लड़की को जन्म दिया.

बता दें कि पीड़िता महिला के पिता ने आरोपी के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज करवाया. इसके बाद कोर्ट के न्यायधीश डॉ.ज्ञानेन्द्र कुमार शर्मा ने इस मामले के आरोपी को धारा 376 (2) के तहत आजीवन कारावास और नवजात बच्चे के लिए 10 हजार रुपए देने के आदेश दिए हैं.





See More

 
Top