ओडिशा के गोपालपुर में गुरुवार को 126 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवाओं के साथ तूफान तितली ने दस्तक दी है. अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है.

मौसम विभाग के अनुसार, तूफना तितली दक्षिणी ओडिशा -उत्तरी आंध्र प्रदेश के तटों को पार कर गया है जिससे ओडिशा के आठ जिलों गंजम, गजपति, खुर्दा, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रापड़ा, भद्रक और बालासोर में भारी बारिश हुई और कई पेड़ उखड़ गए. तीन लाख लोगों को यहां से सुरक्षित स्थानों की ओर जाना पड़ रहा है.

विशेष राहत आयुक्त बिष्णुपदा सेठी ने कहा कि अब तक गजपति जिला सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है. जिला मुख्यालय से मोहन और काशीनगर जैसे विभिन्न हिस्सों तक सड़क संचार बाधित हो गया है.

ओडिशा के बालासोर में 117 मिलीमीटर तक भारी बारिश हुई और पारादीप में 111 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. मौसम संबंधी भविष्यवाणी करने वाली कंपनी स्काईमेट ने कहा कि गोपालपुर, जहां चक्रवाती तूफान पहुंचा है, वहां अब तक 97 मिलीमीटर बारिश हुई है और इस क्षेत्र में भारी बारिश होने की आशंका है.

भुवनेश्वर मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक एचआर बिस्वास ने कहा, “तितली ओडिशा तट को दो से तीन घंटों में पार कर जाएगा.”मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक समुद्र में जाने से मना कर दिया गया है.

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि यह तूफान श्रीकाकुलम जिले के पलासा को सुबह 4.30 और 5.30 बजे के बीच पार कर गया. विस्थापितों के लिए कुल 1,112 राहत शिविर खोले गए हैं.

ओडिशा के मुख्य सचिव आदित्य पाधी ने सभी स्कूलों, कॉलेजों और आंगनबाड़ियों को गुरुवार और शुक्रवार को बंद रखे जाने की घोषणा की.प्रभावित इलाकों में कुल 13 राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और नौ ओडिशा आपदा त्वरित प्रतिक्रिया बल (ओडीआरएएफ) की टीमें तैनात की गई हैं.





See More

 
Top