अमित शाह ने हैदराबाद में अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव का बिगुल फूंका. उन्होंने युवा महाअधिवेशन विजय लक्ष्य 2019 को संबोधित करते हुए लोगों से कहा कि एक बार फिर से नरेंद्र मोदी की सरकार बनवा दें तो कश्मीर से कन्याकुमारी तक घुसपैठियों को चुन-चुनकर निकाल दिया जाएगा.

इस बार तेलंगाना में भी सरकार बदलने वाली है. उन्होंने कहा कि केसीआर सरकार ने ओवैसी के डर से राज्य में हैदराबाद लिबरेशन डे मनाना बंद कर दिया है. जब हमारी सरकार सत्ता में आएगी तो इसका आयोजन किया जाएगा. उन्होंने राहुल गांधी को निशाने पर लेते हुए शाह ने कहा- हम साढ़े चार साल का हिसाब आपको नहीं देना चाहते हैं क्योंकि आपको हिसाब मांगने का अधिकार नहीं है. आपने चार पीढ़ियों तक शासन करके भी गरीबों के लिए कुछ नहीं किया.

असम में नैशनल सिटिजन रजिस्टर के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा, ‘बीजेपी NRC लेकर आई और 40 लाख लोगों को घुसपैठियों के तौर पर चिह्नित किया गया. यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है और हम इस पर समझौता करने से इनकार करते हैं. हैदराबाद में प्रभावशाली नेता असदुद्दीन ओवैसी पर हमला बोलते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि उनके डर से केसीआर सरकार ने हैदराबाद लिबरेशन डे मनाना छोड़ दिया है. उन्होंने कहा कि हैदराबाद वह स्थल है जहां से सरदार पटेल जी ने सिंहनाद किया था, भारत को एक करने का और निजाम को दुम दबा कर भागना पड़ा था.

उन्होंने राहुल गांधी पर चुटकी लेते हुए कहा, ‘राहुल बाबा आपकी पार्टी को तो दूरबीन लेकर ढूंढना पड़े ऐसा हो गया है. 2019 में भी भारतीय जनता पार्टी श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चुनाव लड़ने को तैयार है. महागठबंधन पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि जहां पीएम मोदी ‘मेक इन इंडिया’ बना रहे हैं, वहीं महागठबंधन ब्रेकिंग इंडिया में व्यस्त है. उन्होंने कहा कि महागठबंधन का कोई नेता, नीति या आदर्श नहीं है.

उन्होंने इस मौके पर विपक्ष और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला किया और कहा, ‘राहुल बाबा हम साढ़े चार सालों का हिसाब आपको नहीं देना चाहते हैं क्योकिं आपको हिसाब मांगने का अधिकार नहीं. कांग्रेस ने चार पीढ़ी तक शासन करके भी गरीबों के लिए कुछ नहीं किया. कुछ दिन पहले लॉन्च की गई आयुष्मान भारत योजना से देश के करीब 50 करोड़ लोगों को फायदा होने की बात उन्होंने कही.





See More

 
Top