उत्तराखंड की जमीन में दबी सैकड़ों मिसाइलों को आखिरकार नष्ट करने का काम अब परवान पर है। जसपुर पतरामपुर में पिछले दस सालों से अधिक समय से जमीन में दबी 555 मिसाइलों में से 220 मिसाइलें बाहर निकाली जा चुकी हैं। सेना की मध्य कमान की टीम इन मिसाइलों को नष्ट करने में जुटी हुई है। इन मिसाइलों को फीका नदी क्षेत्र में नष्ट किया जा रहा है।

आपको बता दें कि स्क्रैप का एक बड़ा कंसाइनमेंट यहां पहुंचा था। ये स्क्रैप एसजी स्टील कंपनी ने मंगाया था। ईरान से आए इस स्क्रैप में बड़ी संख्या में मिसाइलें भी आ गईं थीं। दिसंबर 2004 में स्क्रैप गलाते समय एक मिसाइल में धमाका हो गया था। इस हादसे में एक मजदूर की मौत हो गई थी। इसके बाद सभी मिसाइलें जमीन में दबा दी गईं थीं।

अब सेना ने 14 सालों बाद इन्हें नष्ट करने का काम शुरु किया है। आसपास के तकरीबन एक किलोमीटर के इलाके को नो मेंस जोन बनाया गया। सुरक्षा के मद्देनजर पीएसी की तैनाती भी की गई है। सेना के प्रशिक्षित जवान मिसाइलों को जमीन में से खोदकर निकाल रहें हैं और उन्हें नष्ट कर कर रहें हैं। सभी मिसाइलों को नष्ट करने में तकरीबन एक हफ्ते का वक्त लगेगा।





See More

 
Top