• आर्मी कैडेट कॉलेज (एसीसी) के कैडेट्स को मिली  जेएनयू की डिग्री
देवभूमि मीडिया ब्यूरो
देहरादून : सिपाही के रूप में फौज के आधारभूत ढांचे को करीब से समझने के बाद अब अधिकारी बनकर सेना को अपने नेतृत्व कौशल से मजबूत बनाएंगे। आर्मी कैडेट कॉलेज (एसीसी) की 112वीं ग्रेजुएशन सेरेमनी में 37 कैडेट्स भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) की मुख्यधारा में शामिल हुए। अब वे अकादमी में एक साल का कड़ा प्रशिक्षण लेकर सेना में अधिकारी के रूप में पदार्पण करेंगे।
भारतीय सैन्य अकादमी में आज ग्रेजुएशन सेरेमनी के दौरान कैडेट्स को डिग्री दी गयी। आईएमए के एतिहासिक चेटवुड हाल में आयोजित कार्यक्रम में 37 कैडेट्स को आईएमए कमांडेंट ने डिग्रियां दी। समारोह में जितेंद्र चहर -गोल्ड को चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ गोल्ड मेडल (सीओएएस), संजय सिंह को सीओएएस सिल्वर मेडल और हरी प्रशाद को सीओएएस ब्रांज मेडल ब्रांज मैडल दिया गया।
आईएमए में तेन साल की कड़ी मेहनत के बाद 37 कैडेट्स को ग्रेजुएशन सेरेमनी के बाद डिग्रि मिल गयी। आर्मी कैडेट कॉलेज (एसीसी) के कैडेट्स को जेएनयू की डिग्री दी गयी। ग्रेजुएशन के बाद ये कैडेट्स आईएमए में एक साल का कड़ा प्रशिक्षण लेंगे जिसके बाद ये भारतीय सेना में सैन्य अधिकारी के रूप में शामिल हो जाएंगे।
कार्यक्रम में आईएमए कमांडेंट लेफ्टिनेंट जनरल एसके झा के हाथों एसीसी के कैडेट्स को जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की डिग्री प्रदान की गई। इसमें 17 साइंस स्ट्रीम एवं 20 ह्यूमिनिटी स्ट्रीम के हैं। अब एसीसी के इन कैडेट को सालभर तक आईएमए में ट्रेनिंग दी जाएगी। ट्रेनिंग के बाद पीओपी में इन कैडेट्स को अलग-अलग यूनिट में भेजा जाएगा। सेरेमनी में ग्रेजुएशन के दौरान सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले कैडेट्स को गोल्ड, सिल्वर और बांज मैडल दिए गए। इसमे सर्विस सब्जेक्ट्स- जितेंद्र चहर, ह्यूमिनिटीज स्ट्रीम- संजोक क्षेत्री ,साइंस स्ट्रीम- संजय सिंह और कमान्डेंट्स बैनर-कारगिल कंपनी को दिया गया। 




See More

 
Top