बुधवार को देहरादून के रायपुर थाने में भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए. हंगामे के दौरान पत्थर भी चले, पुलिस ने लाठियां फटकार भीड़ को तितर-बितर करने की कोशिश भी की. इसके बावजूद दोनों पक्ष थाने के अंदर आमने सामने डटे रहे. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह जहां थाने के भीतर धरने पर बैठ गए, वहीं भाजपा कार्यकर्ताओं की अगुवाई करने के लिये विधायक उमेश शर्मा काऊ पहुंच गए.

निकाय चुनाव परिणाम के बाद 20 नवम्बर को विजय जुलूस के दौरान एमडीडीए डालनवाला कॉलोनी में कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए थे. यहाँ से कांग्रेस प्रत्याशी जीती थी. आरोप है कि भाजपाइयों के घरों में पटाखे छोड़ने के साथ ही पथराव किया गया. जबकि कांग्रेस ने भाजपा पर विजय जुलूस पर पथराव करने का आरोप लगाया था. दोनों पक्षो ने एक दूसरे के खिलाफ रायपुर थाने में शिकायत की थी, लेकिन पुलिस ने सिर्फ भाजपा की शिकायत पर ही कांग्रेसियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया.

इसके विरोध में बुधवार को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ रायपुर थाने का घेराव करने पहुंचे. उनके साथ दिनेश अग्रवाल, सूर्यकांत धस्माना, राजकुमार, लाल चंद शर्मा, गोदावरी थापली, दीप बोहरा, प्रभुलाल बहुगुणा समेत कई वरिष्ठ नेता थे, जबकि भाजपा से छात्र राजनीति से जुड़े नेता पहले से ही थाने के गेट पर पहुंच गए थे, थाने के अंदर घुसने को लेकर यहां पहले यहाँ दोनों पक्षों में झड़प हुई.

कांग्रेसी थाने के अंदर धरने पर बैठ गए, जबकि पुलिस ने भाजपाइयों को थाना परिसर में ही रोक दिया. दोनों तरफ से एक दूसरे के खिलाफ नारेबाजी चल रही थी कि भाजपा विधायक उमेश शर्मा काऊ पहुंच गए. आरोप है कि इस बीच कांग्रेस की तरफ से पत्थर फेंके गए, जिससे दो भाजपाई चोटिल हो गए. इसके बाद माहौल बिगड़ गया.





See More

 
Top