• वर्तमान में परिंदों की संख्या दो हज़ार तक पहुंची 
  • परिंदों को देखने को उमड़ रहे हैं पक्षी प्रेमी 
देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
देहरादून । आसन वेटलैंड में देशी विदेशी परिंदों की मौजूदगी से हर तरफ चहचहाहट बढ़ गई है। नमभूमि क्षेत्र में वर्तमान में प्रवासी परिंदों की संख्या 2000 पहुंच गई है। पक्षी प्रेमी व पर्यटक यहां उमड़ रहे हैं। साथ ही बोटिंग और बर्ड वाचिंग का दोहरा आनंद उठा रहे हैं। पर्यटकों की यहां बढ़ती संख्या से गढ़वाल मंडल विकास निगम के आसन पर्यटन स्थल प्रबंधन के भी चेहरे खिले हुए हैं। प्रवासी परिंदों की संख्या बढने की वजह से चकराता वन प्रभाग की आसन रेंज टीम ने गश्त तेज कर दी है। रात की गश्त में सशस्त्र वन कर्मियों के साथ प्रशिक्षु वन आरक्षी भी लगाए गए हैं।
वर्तमान में आसन नमभूमि में विदेशी प्रजातियों मैलार्ड, पलाश फिश ईगल, सुर्खाब, कामनकूट, गैडवाल, लिटिल ग्रेब, इरोशियन विजन, कामन पोचार्ड, टफ्ड पोचार्ड आदि प्रवास पर पहुंचे हैं। यहां देशी परिंदों का प्रवास पहले से था। यहां हर साल बर्फीले इलाकों से परिंदे यहां प्रवास को आते हैं। आसन झील में परिंदों के खाने के लिए पर्याप्त काई, मछली व अन्य कीडे मकोड़े हैं।
वर्तमान में परिंदों की संख्या 2000 के करीब पहुंच चुकी है। देश के पहले कंजरवेशन रिजर्व आसन नमभूमि क्षेत्र में वूली नेक्टड, पेंटेड स्टार्क, रुडी शेलडक, ब्लैक आइबीज नया नाम रेड कैप्ट आइबीज, पलास फिश ईगल, ग्रेट क्रेस्टेड ग्रेब, ग्रे लेग गूज, रुडी शेलडक, गैडवाल, इरोशियन विजन, मैलार्ड, स्पाट बिल्ड डक, कामन पोचार्ड, टफ्ड डक, पर्पल स्वेप हेन, कामन मोरहेन, कामन कूट, ब्लैक विंग्ड स्किल्ड, रीवर लोपविंग, ब्लैक हेडेड गल, पलास फिश ईगल, इरोशियन मार्क हेरियर, लिटिल ग्रेब, डारटर, लिटिल कोरमोरेंट, लिटिल इ ग्रेट, ग्रेट इ ग्रेट, ग्रे हेरोन, पर्पल हेरोन कामन किंगफिशर, व्हाइट थ्रोटेड किंगफिशर, पाइज्ड किंगफिशर आदि प्रजातियों के परिंदे प्रवास पर आते हैं।




See More

 
Top