देहरादून : रिस्पना नदी की पीड़ा को पीएम मोदी तक पहुंचाने वाली देहरादून की छात्रा गायत्री पेगवाल तो आप सबको याद होगी…जिसने मन की बात में पीएम मोदी को अपने मन की बात और पीड़ा बताई थी…जी हां वही गायत्री जिसने बिल्कुल खत्म हो चुकी रिस्पना नदी की पीड़ा और नदी को फिर से जिंदा करने के लिए पीएम मोदी से गुहार लगाई थी. जिसको उत्तराखंड की जनता सहित पूरे देश ने सुना था.

पीएम मोदी से रुबरु होंगी गायत्री

दरअसल गायत्री पेगवाल रविवार को यानी आज पीएम मोदी से रुबरु होंगी. आपको बता दें गायत्री देश के उन चुनिंदा लोगों में शामिल हैं, जिन्हें मन की बात के 50वें संस्करण में शामिल होने का न्यौता मिला है। शनिवार शाम को सरकारी खर्च पर बीए की छात्रा गायत्री पेगवाल जौलीग्रांट एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए रवाना भी हो गई हैं।

जो सरकार कर न सकी

जो काम सरकार न कर सकी उस काम का बीड़ा देहरादून के गरीब तबके की गायत्री ने उठाया…नदी की जिस पीड़ा को सरकार को कम करना चाहिए था या केंद्र से मदद मांगनी चाहिए उसको स्कूल पढ़ने वाली लड़की ने प्रमुखता से पीएम मोदी को अपने मन की बात में कही. जिसके बाद पीएम मोदी ने उसे भरोसा दिलाया था की रिस्पना को फिर से जीवित करने की कोशिश वो करेंगे…सरकारें दांवे करती है…दिखावे के लिए रिस्पना के किनारे जाकर पेड़-पौधे भी लगाती है लेकिन अखबारों और टीवी चैनलों में आने के बाद सब भूल सी जाती है…लेकिन गायत्री औऱ पीएम की मन की बात न तो गायत्री भूली औऱ न ही पीएम मोदी इसलिए शायद उसे बुलावा भी आया…जिससे कुछ न कुछ उम्मीद दिख रही है.





See More

 
Top