गुरुवार को कांग्रेस ने अपना चुनावी घोषणापत्र जारी किया, जिसमें किसानों के लिए कर्जमाफी, महिलाओं के लिए नि:शुल्क शिक्षा और सबको स्वास्थ्य का अधिकार और युवाओं के लिए नौकरियों का वादा किया गया है. प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए 7 दिसंबर को होने वाले मतदान से नौ दिन पहले कांग्रेस ने ‘राजस्थान जनघोषणा पत्र’ नाम से अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी किया है.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने इस लोगों का घोषणा पत्र बताते हुए कहा, “दो लाख से अधिक राय व सुझावों का विचार करने के बाद इसे अंतिम रूप दिया गया है.”कांग्रेस ने किसानों को पेंशन देने और कृषि उपकरणों को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे से बाहर रखने का वादा किया है.

पायलट ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने राजस्थान दौरे के दौरान किसानों से वादा किया है कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर 10 दिनों के भीतर किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि चुनावी घोषणा पत्र महज एक दस्तावेज नहीं है, बल्कि लोगों से किया गया वादा है. पायलट ने कहा, “हमने इसे समयबद्ध तरीके से लागू करने की योजना बनाई है. पार्टी 30 दिनों के भीतर उत्तरदायित्व विधेयक लाएगी.”

युवाओं को रोजगार के पर्याप्त अवसर दिलाने का वादा करते हुए उन्होंने कहा कि जो लोग अपना व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं, उनको कर्ज दिया जाएगा.

घोषणा पत्र के अनुसार, बेरोजगार युवाओं को हर महीने 3,500 रुपये का भत्ता मिलेगा और छात्रों को राज्य में परीक्षा देने के लिए मुफ्त यात्रा की सुविधा दी जाएगी.

कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में राजस्थान में पत्रकारों की सुरक्षा के लिए कानून, कम ब्याज दर पर कृषि ऋण, मजदूरों का पलायन रोकने के लिए बोर्ड बनाने और सभी जिलों में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान खोलने का वादा किया है.

घोषणा पत्र जारी करते समय प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और घोषणा पत्र समिति के अध्यक्ष हरीश चौधरी समेत कांग्रेस के सभी वरिष्ठ नेता मौजूद थे.

उधर, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने हर साल 30,000 नई सरकारी नौकरियों का वादा करते हुए मंगलवार को अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी किया. भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में अगले पांच साल में निजी क्षेत्रों में 50 लाख रोजगार के अवसर पैदा करने और शिक्षित बेरोजगारों को 5,000 रुपये भत्ता देने का वादा किया है.





See More

 
Top