सारा और सुशांत की आने वाली फिल्म ‘केदारनाथ’ पर उत्तराखंड में बैन लग गया है. उत्तराखंड के सात जिलों में फिल्म के प्रदर्शन पर देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल, उधम सिंह नगर, पौड़ी, टिहरी और अल्मोड़ा जिलों में हिन्दू संगठनों के विरोध के मद्देनजर ‘केदारनाथ’ फिल्म के प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

वर्ष 2017 में सितंबर और अक्टूबर माह में केदारनाथ फिल्म की शूटिंग गौरीकुंड, त्रियुगीनारायण, सोनप्रयाग, रामबाडा, चोपता और केदारनाथ धाम में की गई थी. रामबाड़ा के दृश्य त्रियुगीनारायण में दर्शाए गए. शूटिंग के दौरान ही फिल्म की कहानी को लेकर स्थानीय लोगों में आक्रोश पैदा हो गया था. टीजर जारी होने के बाद तो विरोध और भी ज्यादा बड़ गया था.

फिल्म को लेकर विवाद
हाईकोर्ट में दाखिल याचिका में कहा गया था कि फिल्म में केदारनाथ मंदिर परिसर में बोल्ड किसिंग सीन और लव जेहाद जैसे दृश्य फिल्माए गए हैं. संयुक्त पीठ ने सुनवाई के दौरान कहा कि आपत्तिजनक सीन का मामला सेंसर बोर्ड के अधिकार का है, वहीं शांति व्यवस्था सरकार या जिले में डीएम के जिम्मे है, ऐसी किसी परिस्थिति में सरकार अथवा उसके नुमाइंदा बतौर डीएम फैसला ले सकते हैं. अदालत ने यह भी टिप्पणी की है कि जनता चाहे तो यह फिल्म न देखे.

अदालत ने कहा कि याचिका दायर कर याची फिल्म का प्रचार-प्रसार कर रहे हैं. सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से अदालत को बताया गया कि प्रदेश में इसके लिए उच्चस्तरीय कमेटी गठित की गई है. इस पर कोर्ट ने कहा कि कमेटी को नियमानुसार इस पर निर्णय लेना चाहिए. इधर, कोर्ट के इस फैसले के बाद याचिकाकर्ता दर्शन भारती ने कहा कि उन्हें इससे निराशा हुई है. उन्होंने कहा कि प्रदेश और केंद्र सरकार से इस फिल्म पर रोक की मांग की जाएगी. उच्चस्तरीय कमेटी से भी वह इस मामले में अनुरोध करेंगे. जरूरत पड़ने पर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया जाएगा.





See More

 
Top