शिक्षा सबका आधिकार है…लेकिन देश के इस राज्य में एक जगह ऐसी है जहां आज तक कोई स्कूल ही नहीं गया. एक तरफ सरकार सब पढ़ें-सब बढ़े का दावा करती है और काई अभियान चला रही है वहीं दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ में एक गांव ऐसा है जहां आज तक किसी ने स्कूल की सकल तो क्या वहां कोई स्कूल ही नहीं है। यहां के सभी लोग पूरी तरह अनपढ़ हैं। जशपुर जिले में विशेष संरक्षित जनजाति पहाड़ी कोरवा जनजाति के लोगों को ऊपर उठाने के लिए सरकार कहने की कोशिश कर रही है, लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि एक गांव जहां इस जनजाति के लोग रहते हैं, वे पूरी तरह शिक्षा से दूर हैं। इस गांव में स्कूल और शिक्षा से किसी को भी सरोकार नहीं है।

गांव तक पहुंचने में ही छूट जाएंगे पसीने

बगीचा तहसील के पंड्रापाठ पंचायत का यह आश्रित ग्राम आजादी के 70 पंचायत मुख्यालय से पांच किलोमीटर की दूरी पर स्थित इस गांव तक पहुंचने में ही पसीने छूट जाएंगे, क्योंकि यहां तक पहुंचने के लिए पूरे पांच किलोमीटर की पत्थरीली पगडंडी का रास्ता तय करना पड़ता है।

लाल पानी निकलने की वजह से बंद पड़ा हैंडपंप

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो पहाड़ी कोरवा बाहुल्य गांव में 20 परिवार रहते हैं…वहीं बुनियादी सुविधा के नाम पर शासन-प्रशासन ने किस प्रकार कागजी खानीपूर्ति की है यह देख कर आपको भी हैरानी होगी. गांव में पानी की जरूरत पूरा करने के लिए एक हैंडपंप बरसों पहले खुदवाया गया था लेकिन खुदाई होने के बाद से ग्रामीणों को एक बाल्टी पानी इस हैंड पंप से नहीं मिल पाया है। लाल पानी निकलने की वजह से यह बंद पड़ा हुआ है। पानी के लिए महिलाओं को रोजना 6 किलोमीटर पदयात्रा कर खेत के बीच में स्थित ढोढ़ी तक जाना पड़ता है। बिजली बामुश्किल पांच घंटे ही मिल पाती है। बारिश के दिनों में बैटरी के चार्ज ना होने से अंधेरे में ही ग्रामीणों को रात गुजारनी पड़ती है।

गांव में ना तो है प्राथमिक शाला और ना ही आंगनबाड़ी केन्द्र

अंबापकरी गांव की सबसे बड़ी विडंबना है इस गांव का शत प्रतिशत निरक्षर होना। इस गांव में ना तो प्राथमिक शाला है और ना ही आंगनबाड़ी केन्द्र। वन बाधित इस गांव में सबसे नजदीकी स्कूल और आंगनबाड़ी केन्द्र गांव से 4 किलोमीटर दूर तेंदपाठ गांव में स्थित है। जंगली जानवरों के भय से इस गांव से आज तक कोई भी इस 4 किलोमीटर की दूरी को तय करने का साहस नहीं जुटा पाया। नतीजा बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक किसी ने आज तक स्कूल और आंगनबाड़ी में कदम नहीं रखा है। यह गांव शत प्रतिशत निरक्षर है।

सर्दी के मौसम में यहां के लोगों का बुरा हाल

सर्दी के मौसम में यहां के लोग किस हाल में रहते हैं इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि शीत लहर की वजह से पारा 4 से 5 डिग्री के आसपास हो जाता है। इस कड़ाके की सर्दी में गर्म कपड़े ना होने की वजह से अंबापकरी के ग्रामीण घास के बने हुए झोपड़ी में अपने तन को छुपाए हुए नजर आएंगे।

इस बारे में ट्राइवल विभाग के सहायक आयुक्त एसके वाहने का कहना है कि पहाड़ी कोरवा विशेष संरक्षित जनजाति है। इनके क्षेत्र में सरकार विकास के लिए हर तरह के प्रयास कर रही है। अंबापकरी गांव के लोग शिक्षा से अछूते क्यों हैं, यह बात समझ से परे है। अब यहां शासन स्तर पर साक्षरता के लिए प्रयास तेज करेंगे।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top