प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने परीक्षा से पहले छात्रों को तनाव मुक्त करने के लिए संवाद किया। तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित ‘परीक्षा पे चर्चा’ कार्यक्रम में उन्होंने छात्रों से कहा कि वे कुछ पल बच्चों की तरह जीना चाहता हैं। इस कार्यक्रम में छात्रों के अलावा कुछ अभिभावक और शिक्षक भी शामिल हुए। वहीं देश के तमाम शहरों के साथ ही उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के सरकारी और माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और केन्द्रीय स्कूलों और उच्च शिक्षण संस्थानों में कार्यक्रम के सीधे प्रसारण की के जरिये देखा गया। कार्यक्रम में पीएम मोदी के अलावा एचआरडी मिनिस्टर प्रकाश जावड़ेकर भी मौजूद रहे।

10वीं और 12वीं की परीक्षा से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज छात्रों से परीक्षा पर चर्चा

10वीं और 12वीं की परीक्षा से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज छात्रों से परीक्षा पर चर्चा की। परीक्षा के दबाव को दूर करने के लिए पीएम ने छात्र-छात्राओं को मंत्र दिए। कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने पीएम से परीक्षा के दबाव पर सवाल पूछे।  देहरादून के हाथीबड़कला स्थित केन्द्रीय विधालय द्वितीय के छात्र-छा़त्राओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यक्रम परीक्षा पे चर्चा को सीधे प्रसारण के जरिए देखा। स्कूल के करीब 200 से अधिक छात्र-छात्रायें इस पल के साक्षी बने। सभी ने परीक्षा को लेकर प्रधामनंत्री मोदी द्वारा दिये गये गुरू मंत्र को ध्यान से सुना व कुछ छात्रों ने काॅफी पर भी नोट किया।

छात्रों ने की प्रधानमंत्री मोदी की एक सुर में तारीफ

परीक्षा पे चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से बोर्ड परीक्षार्थियों को दिए गए सुझाव छात्र-छात्राओं को पसंद आए। खास तौर पर टेक्नोलॉजी के सही इस्तेमाल के जरिये परीक्षा की बेहतर तैयारी और जानकारी अर्जित करने का सुझाव सभी स्टूडेंट्स को पसंद आया। छात्रों का कहना है कि टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से कम समय में अच्‍छी तैयारी करने में मदद मिलेगी और तकनीक का भी सदुपयोग होगा। प्रधानमंत्री मोदी को सुनकर न सिर्फ मानसिक तनाव दूर हुआ है बल्कि परीक्षा की तैयारियों की भी काफी प्ररेणा मिली है। सभी छात्रों ने प्रधानमंत्री मोदी की एक सुर में तारीफ करते हुए कहा कि पिछले साल भी परीक्षा में उन्हें इस कार्यक्रम का बहुत लाभ मिला।

दूसरी बार दिए पीएम मोदी ने छात्रों को तनाव मुक्त होकर परीक्षा देते हुए सफलता हासिल करने के मंत्र 

यह लगातार दूसरा साल है जब पीएम मोदी ने छात्रों को तनाव मुक्त होकर परीक्षा देते हुए सफलता हासिल करने के मंत्र दिये। इस साल पीएम मोदी के इस कार्यक्रम में स्टूडेंट्स के साथ टीचर, पैरेंट्स और विदेशी स्टूडेंट्स ने भी हिस्सा लिया। दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम ‘परीक्षा पे चर्चा 2.0’ में कक्षा 9 से 12वीं तक के छात्र शामिल रहे। राजधानी देहरादून में परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम के लिए शहर के कई स्कूलों में प्रोजेक्टर की व्यवस्था की गई। इस दौरान स्कूलों के शिक्षक और प्रधानाचार्य भी बच्चों के साथ मौजूद रहे। केन्द्रीय विधालय हाथीबड़कला में जीव विज्ञान के शिक्षक चेतन देव ने प्रधानमंत्री मोदी के इस कार्यक्रम को छात्रों के लिये काफी लाभप्रद वनवाया। छात्र इससे बहुत मोटिवेट होते हैं उन्होंने कहा कि स्कूल का पिछले साल का बहुत बेहत्तर रहा।

परीक्षा में असफलता का सामना करने वालों के लिए संदेश देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, एक कविता की पंक्तियां मुझे याद हैं कि कुछ खिलौनों के टूटने से बचपन नहीं मरा करता है। इन पंक्तियों में एक बहुत बड़ा संदेश है। एक-आध परीक्षा में कुछ इधर-उधर हो जाए तो जिंदगी ठहर नहीं जाती है। प्रधानमंत्री मोदी की मोटिवेशन स्पीच का ही नतीजा है कि अन्य सालों की तुलता में पिछले साल उत्तराखंड के सरकारी, अर्ध सरकारी, प्राईवेट, केन्द्रीय विधालयों का रिजल्ट बेहत्तर रहा है। इस साल भी यही उम्मीद जताई जा रही है। छात्र-छात्राओं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिये गये गुरूमंत्रों से काफी उत्साहित नजर आये।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top