देहरादून : भाजपा के वरिष्ठ नेता अनिल गोयल के ठिकानों पर बीते दिनों दिल्ली और यूपी की 13 टीमों ने छापेमारी की जिसमे चौंकाने वाले खुलासे अनिल गोयल की संपति को लेकर हुए साथ ही कई गड़बड़ी भी सामने आई. वहीं अनिल गोयल की प्रॉपर्टी और जमीन रजिस्ट्री के दस्तावेजों को देखकर तो खुद आय़कर विभाग की टीम के पैरों तले जमीन खसक गई. टीम के जांच अधिकारी भी हैरान रह गए क्योंकि भाजपा नेता के दस्तावेजों से 300 से अधिक की जमीन की खरीद-फरोस्त और रजिस्ट्री के कागज पाए गए. साथ ही जब्त किए गए दस्तावेजों और पूछताछ के आधार पर गोयल परिवार करीब 21 करोड़ रुपये की संपत्ति का हिसाब नहीं दे पाए.

13 टीम ने मारा छापा, 70 लाख रुपये किए जब्त

आपको बता दें आयकर विभाग की 13 टीमों ने जिसमे दिल्ली औऱ यूपी आयकर विभाग की टीमें भी शामिल हैं ने देहरादून समेत विकास नगर, हरिद्वार, रुड़की में भाजपा नेता के कई ठिकानों पर छापेमारी की जिसमें कई चौंकाने वाले खुलासे हुए. साथ ही आयकर की टीम को 70 लाख भाजपा नेता के प्रतिष्ठान से मिले। साथ ही आयकर की टीम ने 11 लोकरों को सीज किए जिसमें आभूषण होने की आशंका जताई . वहीं दस्तावेज बैंक डिटेल को भी टीम द्वारा खंगाला गया जिसमें कई गड़बड़ी और लेन-देन के चौंकाने वाले खुलासे हुए। साथ ही अनिल गोयल की 40 कंपनियां होने का आंकड़ा सामने आया. वहीं बहुओं के खाते में हर महीने 10-10 लाख रुपये जमा करने की बात भी सामने आई.

10 हजार वर्ग फुट में बन रही अनिल गोयल की बिल्डिंग 

आपको बता दें भाजपा नेता अनिल गोयल की आवाज के साथ ही 10 हजार वर्ग फुट में बन रही बिल्डिंग पर आयकर विभाग ने करीब 10 करोड़ रुपए खर्च होने की आशंका जताई है। वहीं बिल्डिंग के निर्माण के लिए खर्च होने वाली राशि कहां से आई इसकी जानकारी भी अनिल गोयल आयकर की टीम को नहीं दे पाए। जिसकी बाद एक बार फिर अनिल गोयल फंसते हुए नजर आ रहे हैं। वहीं क्वालिटी मार्ट के खातों में 11 करोड़ से ज्यादा की गड़बड़ी अब तक सामने आ चुकी है.

उमंग साड़ीज से अकाउंट्स बुक के दो सेट जब्त

आयकर विभाग की टीम ने राजपुर रोड स्थित उमंग साड़ीज के शोरूम से दो अकाउंट्स बुक को कब्जे में लिया है। प्रधान निदेशक (जांच) अमरेंद्र कुमार के अनुसार उमंग साड़ी से मिली अकाउंट्स बुक में बड़े पैमाने पर लेन-देन का हिसाब दर्ज है। प्रारंभिक रूप से की गई जांच में इसमें ऐसे लेन-देन दर्ज पाए गए हैं, जो गोयल परिवार के रिटर्न से काफी भिन्न हैं।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top