देहरादून : फायर स्टेशन देहरादून में पुलिस उपमहानिरीक्षक अग्निशमन एवं आपात सेवा एमएस नपचायल की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय गोष्टी का आयोजन किया गया। जिसमें अग्निशमन विभाग द्वारा किए जाने वाले कार्यों की समीक्षा की गई।

इस अवसर पर फायर स्टेशनों के स्तर पर अग्निकांड एवं रेस्क्यू कार्य पर किए जाने वाले कार्यों पर विशेष सतर्कता रखने एवं अग्रिम फायर सीजन को देखते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। इज ऑफ डूइंग बिजनेस के अंतर्गत अग्निशमन एवं आपात सेवा को महत्वपूर्ण माना गया है, जिसके लिए अनापत्ति प्रमाण पत्रों के तरीके पोर्टल विकसित किया गया है, जिसमें समयबद्ध निस्तारण हेतु जोर दिया गया।

पुलिस उपमहानिरीक्षक एन एस नपच्याल द्वारा बताया गया कि शासन स्तर से में 11 नए फायर स्टेशनों पर सहमति बनी है, इसमें अग्निकांड एव दुर्घटनाओं पर जल्दी पहुंचा जा सकेगा इनमें से प्रमुख श्रीनगर, गैरसैण, त्यूणी, डोईवाला, बाजपुर, डीडीहाट, भगवानपुर, थलीसैण, पुरोला, घनसाली, बद्रीनाथ है। फायर यूनिटों की संख्या बढ़ने से जहां अग्निशमन विभाग की मजबूती बढ़ेगी। वहीं फायर सर्विस कर्मियों की संख्या में भी इजाफा होगा नए फायर सर्विस कर्मियों की भर्ती भी निकट भविष्य में होने की संभावना है।अग्निशमन विभाग को मार्डनाइजेशन करने की दिशा में नए उपकरणों हेतु शासन स्तर से विश्व बैंक से लगातार वार्ता की जा रही है।इस अवसर पर मुंबई में आयोजित अंतरराष्ट्रीय फायर कॉम्बेट 360 में प्रतिभाग करने वाले फायर सर्विस कर्मियों को सम्मानित किया गया इसमें फायरमैन देवेंद्र कंडारी मनीष पंत मनमोहन सिंह दीपक थपलियाल और विपिन चौहान ने प्रतिभाग कर प्रदेश का मान बढ़ाया।

उपनिदेशक तकनीकी एस के शर्मा द्वारा बताया गया कि पिछले वर्षों में अग्निकांड एवं रेस्क्यू कार्यों में वृद्धि हुई है वर्ष 2018 में पूरे प्रदेश में 2994 अग्निकांड और दुर्घटनाओं संबंधी सूचना प्राप्त हुई है जिसे 171.76 करोड़ों रुपए की संपत्ति बचाई गई तथा 1184 मनुष्य और 384 जीवो को बचाया गया।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top