देश की राजधानी स्थित सर गंगाराम अस्पताल में 18 साल के एक मरीज के शरीर से अब तक का सबसे बड़ा 12 किलो का ट्यूमर सर्जरी करके सफलतापूर्वक निकाला गया. यह जानकारी अस्पताल प्रशासन ने दी. अस्पताल के अनुसार, इससे पहले सबसे बड़े ट्यूमर का मामला 2014 में अमेरिका के मियामी विश्वविद्यालय में सामने आया था.

मरीज प्रवीण कुमार गुप्ता पिछले साल जब अस्पताल आया था तो वह ठीक से चल नहीं पाता था और न ही वह ढंग से बैठ पाता था. उसकी बायीं जांघ में काफी सूजन थी. स्नायु और रक्त वाहिनयों पर दबाव के कारण पैरों में कमजोरी थी और संवेदना समाप्त हो गई थी.

जांच में पता चला कि कूल्हे और जांच के पीछे एक बहुत बड़ा ट्यूमर (37 सेंटीमीटर लंबा, 18 सेंटीमीटर चौड़ा और 12 सेंटीमीटर ऊंचा) था.

सर गंगाराम हॉस्पिटल के ऑर्थोपेडिक ऑको-सर्जन डॉ. ब्रजेश नंदन ने बताया, मरीज की जांच में पता चला कि ट्यूमर में तेजी से वृद्धि हो रही थी. अगर हम सर्जरी में विलंब करते तो यह घातक हो सकता था. ऐसे मामले में रुग्ण्ता और मौत की संभावना काफी ज्यादा रहती है.

अस्पताल के वैस्कुलर और इंडोवैस्कुलर सर्जन अंबरीश सात्विक ने कहा, ट्यूमर निकालने से पहले हमारी टीम ने प्री-ऑपरेटिव एंबोलाइजेशन किया जिसमें हम ट्यूमर में खून की आपूर्ति रोक देते हैं ताकि सर्जरी के दौरान खून की कमी न हो. सात सर्जनों की टीम ने सर्जरी की जिसमें नौ घंटे से अधिक समय लगा.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top