भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि पार्टी ने भले ही मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ चुनावों में शिकस्त खाई हो, लेकिन वह अभी हारी नहीं है. भाजपा राष्ट्रीय परिषद के दूसरे दिन के एक सत्र को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, 2014 में जनता ने भाजपा को पूर्ण बहुमत दिया था और 2014 से हर साल चुनाव हुए और हम जीते.

उन्होंने कहा, हालिया, तीन चुनावों के नतीजों अच्छे नहीं रहे. लेकिन मैं पार्टी कार्यकर्ताओं से कहना चाहता हूं कि हमारे विरोधी भले ही जीत गए हों, लेकिन हम हारे नहीं हैं.

शाह ने कहा, मीडिया हमारी हार पर बहस करेगा, लेकिन मैं उन्हें समझाना चाहता हूं कि हार क्या है. उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया और क्या किसी ने इन्हें दूरबीन की मदद से देखा? राज्यसभा सांसद ने यह भी कहा कि राजनीति में हार और जीत होती रहती है.

उन्होंने कहा, लेकिन भाजपा ने इन तीन राज्यों में अपना आधार नहीं खोया है. हमारे कार्यकर्ताओं को विश्वास रखना चाहिए और उनके पास 2019 में एक मजबूत सरकार की नींव रखने का अवसर है. भाई-भतीजावाद, जातिवाद और तुष्टिकरण के लिए कांग्रेस पर हमला बोलते हुए शाह ने कहा कि इन तीन मुद्दों के कारण देश का विकास बाधित हुआ है.

उन्होंने जोर देकर कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार गरीब समर्थित योजनाओं के साथ आगे बढ़ती रहेगी, ताकि देश के प्रत्येक व्यक्ति तक विकास पहुंचाया जा सके. भाजपा प्रमुख ने यह भी कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए चुनाव केवल सरकार के गठन के लिए नहीं है, बल्कि यह लोकतंत्र का त्योहार है और पार्टी की विचारधारा को दिखाने का अवसर है.





See More

 
Top