देहरादून : हरिद्वार की महिला सिपाही के यौन शोषण के आरोप से घिरे एएसपी परीक्षित कुमार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। पुलिस मुख्यालय ने आरोपित को विभागीय चार्जशीट देने का निर्णय लिया है। जल्द इसकी रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी। इस पर सरकार आरोपित के खिलाफ डिमोशन तक का निर्णय ले सकती है।

महिला पुलिसकर्मि से मांगी थी एएसपी ने मांगी

हरिद्वार में बतौर सीओ सिटी रहते हुए एएसपी परीक्षित कुमार पर महिला सिपाही ने यौन शोषण के गंभीर आरोप लगाए हैं। इस मामले में महिला सिपाही ने एसएसपी को लिखित शिकायत दी थी। शिकायत के आधार पर एएसपी को हटाते हुए पहले इंटेलीजेंस मुख्यालय अटैच किया और बाद में पीएसी में तबादला कर दिया। वहीं महिला सिपाही से एएसपी ने माफी मांग ली थी जिसके बाद महिला पुलिसकर्मी ने समिति के सामने पेश आने औ बयान दर्ज कराने से इंकार कर दिया था.

इस मामले में हरिद्वार के एसएसपी जन्मजेय खंडूड़ी ने विशाखा गाइड लाइन के तहत हुई जांच के बाद रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय भेज दी। डीजी अपराध एवं कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने कहा कि हरिद्वार से मिली रिपोर्ट में विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की गई है। इसके बाद पुलिस मुख्यालय ने आरोपित एएसपी को चार्जशीट देने का निर्णय लिया है। इस संबंध में जल्द शासन को विस्तृत रिपोर्ट भेजी जाएगी।

सूत्रों का कहना है कि पुलिस मुख्यालय की रिपोर्ट पर शासन आरोपित एएसपी को रिवर्ट कर सकता है। बताया जा रहा है कि एक साल बाद एएसपी रिटायर्ड हो जाएंगे। ऐसे में विभागीय चार्जशीट में डिमोशन की सजा दी जा सकती है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top