देहरादून : एक ओर जहां आयकर विभाग की 13 टीमों ने भाजपा नेता अनिल गोयल सहित कई व्यापारियों के ठिकानों पर छापेकर कई राज खोलकर सबके सामने ऱखे तो वहीं भाजपा नेता के फोन में कई ऐसे राज थे जिन्हें छुपाने के लिए भाजपा के वरिष्ठ नेता ने आयकर विभाग की टीम के सामने आने से पहले अपना फोन ही फोर्मेट कर दिया. वहीं अनिल गोयल के भाई दिनेश गोयल को आयकर विभाग ने छापेमारी से बाहर रखा है। मिली जानकारी के अनुसार दिनेश गोयल परिवार से अलग बरेली में रहते हैं और उनका कारोबार भी पूरी तरह अलग है। यही कारण है कि इस छापेमारी में उनके ठिकानों पर कार्रवाई नहीं की गई।

टीम के सामने आने से पहले फोन किया फोर्मेट,व्हाट्सएप और मोबाइल के सारे मैसेज डिलीट

जी हां आयकर विभाग के प्रधान निदेशक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि शुक्रवार सुबह जब गोयल परिवार के ठिकानों पर छापेमारी शुरू की गई तो उन्हें पूछताछ के लिए उपस्थित होने को कहा गया था। इसके बाद भी वह उपस्थित नहीं हुए और शाम को उन्होंने सरेंडर किया. जब उनसे टीम ने फोन मांगा तो नजारा देख हैरान रह गए. उनका फोन फॉर्मेट था. व्हाट्सएप और मोबाइल के सारे मैसेज डिलीट थे.

कई राज खुलने की आशंका

वहीं विभाग की टीम अनिल गोयल के मोबाइल फोन का डाटा रिकवर करने में जुटी है…जिसमें कई ओर राज खुलने के आसार है. क्योंकि हो सकता है इसी डर से भाजना नेता ने फोन फॉर्मेट किया और टीम को सरेंडर किया.

एलएमडी ट्रस्ट में मिली बड़ी गड़बड़, ट्रस्ट की व्यवस्थाएं अनिल गोयल के भतीजे के पास

आयकर विभाग की टीम ने भाजपा नेता अनिल गोयल के रुड़की स्थित क्वांटम यूनिवर्सिटी में भी छापेमारी की जिसमे जुड़े एलएमडी एजुकेशनल एंड रिसर्च फाउंडेशन ट्रस्ट के हिसाब-किताब में भी काफी अनियमितताएं सामने आई हैं। इस ट्रस्ट की व्यवस्थाएं गोयल परिवार के बड़े बेटे राजेंद्र गोयल के बेटे शोभित गोयल के पास हैं। वहीं टीम इनकी भी जांच कर रही है जिसके बाद ही खुलासा होगा.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top