बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने इस साल की विवादित फिल्म ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के रिलीज और प्रोमो पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. कोर्ट ने फिल्म की रिलीज के खिलाफ दायर याचिका को रद्द कर दिया है. वहीं हाईकोर्ट का फैसला आने के बाद याचिकाकर्ता पूजा माहन सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकती हैं.

उनके वकील ने कहा है कि हम सुप्रीम कोर्ट का रुख करेंगे. यह फिल्म पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पूर्व मीडिया सलाहकार संजय बारू द्वारा लिखित पुस्तक पर आधारित है. फिल्म में अभिनेता अनुपम खेर मनमोहन और अक्षय खन्ना बारू का किरदार निभा रहे हैं. फिल्म इस शुक्रवार को रिलीज होगी.

इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के ट्रेलर पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. इस मामले को डिविशन बेंच को भेजा गया था. दरअसल दिल्ली हाईकोर्ट में इस फिल्म के ट्रेलर पर तुरंत रोक लगाने के लिए याचिका दाखिल की गई थी. याचिका में कहा गया था कि ट्रेलर में सिनेमाटोग्राफी एक्ट के रूल 38 का उल्लंघन किया गया है. वहीं यूथ कांग्रेस ने भी फिल्म के ट्रेलर को लेकर आपत्ति जताई थी.

दिल्ली की फैशन डिजाइनर पूजा महाजन ने अपने वकील अरुण मैत्री के माध्यम से यह जनहित याचिका दाखिल की है. याचिका में कहा गया है कि फिल्म प्रधानमंत्री जैसे संवैधानिक पद की छवि को नुकसान पहुंचाएगी और इसकी प्रतिष्ठा को राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय रूप से खराब करेगी.

याचिका में कहा गया है कि ट्रेलर भारतीय दंड संहिता की धारा 416 का उल्लंघन करता है, जिसके तहत किसी जीवित किरदार और जीवित व्यक्ति का प्रतिरूपण कानूनी रूप से गलत है.

वकील मैत्री ने कहा कि फिल्म निर्माताओं ने मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी से उनके किरदार निभाने या उनके राजनीतिक जीवन के चित्रण या समान तरीके से कपड़े पहनने के लिए किसी प्रकार की सहमति नहीं ली है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top