देहरादून : उत्तराखंड आपदा प्रभावित क्षेत्र है…मानसून में अतिवृष्टि के दौरान राज्य को खासा नुकसान का सामना करना पड़ता है जिसमें प्राकृतिक नुकसान तो होता ही साथ ही कई लोगों को जान गवानी पड़ती है जिसे लेकर राज्य सरकार गंभीर नजर आ रही है.

जी हां मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आज सचिवालय में आपदा प्राधिकरण की बैठक ली, जिसमें प्रदेश में लगाए जाने वाले डाॅप्लर रडार के लगाए जाने पर चर्चा हुई…मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड में प्रदेश के दो स्थान मसूरी और मुक्तेश्वर में डाॅप्लर रडार लगाए जाने हैं जिनमें से एक जून तक काम शुरू कर दिया जाएगा. डाॅप्लर रडार लगाए जाने से जहां मौसम की सही जानकारी मिलेगी, वहीं किसी बड़ी आपदा आने का एलर्ट में डाॅप्लर रडार के शुरू होने से पता लगाया जा सकेगा।

आपको बता दें आपदा की दृष्टि से बेहद संवेदनशील उत्तराखंड में जल्द ही मौसम के पूर्वानुमान पहले से ज्यादा स्टीक होगा। बारिश, हिमस्खलन, बादल फटने, तूफान, ओलावृष्टि की जानकारी विभाग को तुरंत मिल पाएंगी। यह संभव होगा प्रदेश के तीन स्थानों मसूरी, पौड़ी और मुक्तेश्वर में डॉप्लर रडार लगने से।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top