देहरादून : विकासनगर में पांच दिन से अपहृत मोती सिंह का सुराग न लग पाने से पुलिस की गुत्थी सुलझने के बजाए उलझती जा रही है। पुलिस ने मामले में नामजद दोनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया और उन्होंने हत्या कर शव फेंकने की बात कबूल ली है लेकिन शव बरामद ना होना पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ है। इसी को लेकर रविवार को हंगामा बरपा और पुलिस ने जमकर लाठीचार्ज किया. वहीं आंसू गैस के गोले छोड़े गए साथ ही धारा 144 लागू की गई.

बात करें पुलिस की तो पुलिस यह भी नहीं पता लगा सकी कि मोती सिंह का अपहरण क्यों किया गया और अगर उसकी हत्या हुई तो किन कारणों से की गई। दोनों आरोपियों के कबूलनामे पर भी पुलिस संदेह कर रही है.

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार का बयान

वहीं विकासनगर में हुए बवाल पर एडीजी लॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार का कहना है कि स्थति अब काबू में है और उस पर पूरी तरह से नियंत्रण पाया जा चुका है. इस दौरान अशोक कुमार ने कहा कि युवक की हत्या के मामले में अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है जिसके बाद भी लोगों ने हंगामा किया, मजबूरन पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा.

शक्तिनहर में गोताखोर उतारकर सर्च ऑपरेशन चलाया

वहीं पुलिस नदीं में अपरह्त युवक के शव की खोजबीन में जुटी है लेकिन अभी तक पुलिस को कामयाबी हासिल नहीं हुई है.अपहृत मोती सिंह के शव के संदेह को लेकर पुलिस ने रविवार को पूरा दिन शक्तिनहर में गोताखोर उतारकर सर्च ऑपरेशन चलाया मगर शव का कोई पता नहीं चला है

बता दें कि त्यूनी निवासी युवक की हत्या को लेकर लोगों के गुस्से ने रविवार को उग्र रूप ले लिया था। आक्रोशित भीड़ ने डाकपत्थर चौक पर जाम लगा दिया. इस दौरान लोगों ने पुलिस और प्रशासनिक टीम पर पथराव किया। इस पर पुलिस टीम ने पहले लाठीचार्ज और फिर हवाई फायरिंग भी की जिससे मामला और भी गंभीर हो गया हांलाकि डीजी लॉ एंड ऑर्डर के मुताबिक अब हालात सामान्य है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top