जेल की सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को पत्रकार हत्या मामले में सजा सुनाते समय वीडियो क्रान्फ्रेंसिंग के जरिए अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने बुधवार को हरियाणा के अधिकारियों को मामले में अभियुक्त राम रहीम और तीन अन्य को सजा सुनाने के दौरान वीडियो क्रान्फ्रेंसिंग के जरिए अदालत के समक्ष पेश करने की अनुमति प्रदान की.

सीबीआई की विशेष अदालत ने 11 जनवरी को राम रहीम और तीन अन्य को मामले में दोषी ठहराया था. उनको 17 जनवरी को अदालत सजा सुनाएगी. अदालत ने राम रहीम और तीन अन्य सहयोगियों को पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या की साजिश रचने का दोषी पाया है.

संप्रदाय के पूर्व प्रबंधक कृष्णलाल, और बढ़ई कुलदीप और निर्मल राम रहीम के अनुयायी थे. उनको अंबाला जेल में रखा गया है. चंडीगढ़ के पास स्थित पंचकूला में सीबीआई के विशेष न्यायाधीश जगदीप सिंह उनको सजा सुनाएंगे. सिरसा के एक अखबार के संपादक छत्रपति को 24 अक्टूबर, 2002 को पांच गोली मारी गई थी, जिससे नई दिल्ली स्थित एक अस्पताल में उनकी 21 नवंबर को मौत हो गई थी.

राम रहीम को 11 जनवरी को रोहतक के सुनारिया जेल से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए अदालत के समक्ष पेश किया गया था. सीबीआई के विशेष न्यायाधीश जगदीप सिंह ने ही राम रहीम को दुष्कर्म के दो मामलों में 25 अगस्त, 2017 को 20 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई थी. छत्रपति के पुत्र अंशुल ने राम रहीम को मृत्युदंड देने की मांग की है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top