आज कल भारत में एप्‍पल के आईफोन का बड़ा क्रेज है। ऐसे में आपने एप्पल कंपनी का लोगो तो देखा ही होगा. लेकिन क्या आपने कभी सोचा कि एप्‍पल के लोगो में सेब थोड़ा सा कटा हुआ क्यों होता है. यह पूरा सेब भी तो हो सकता था.

तो आइए आपको बताते हैं कि एप्पल का लोगो का ये सेब थोड़ा सा कटा हुआ क्यों है. दरअसल 1977 में रॉब जेनिफ ने इस लोगों को तैयार करके एप्पल के फाउंडर स्टीव जॉब्स को दिखाया था और पहली ही नजर में जॉब्स को यह चखे हुए सेब का लोगो भा गया था.

​चखे हुए सेब के बारे में बताया जाता है कि ये लोगो कम्प्यूटर साइंस के पिता माने जाने वाले एलन टर्निंग की याद में बनाया गया है, जिनकी 1954 में संदिग्ध परिस्थियों में मौत हो गई थी और उनके शव के पास से एक चखा हुआ ज़हरीला सेब बरामद हुआ था.

वहीं दूसरी तरफ जेनिफ बताते हैं कि चूंकि सेब एक ऐसा फल है, जिसकी आकृति थोड़ी सी कटने के बाद भी पहचान नहीं बदलती, इसलिए एप्पल कंपनी के लिए इस तरह का लोगो तैयार किया गया.

जेनिफ बताते हैं कि स्टीव जॉब्स ने अपनी कंपनी का नाम एप्पल इसलिए रखा क्योंकि उत्तर कैलिफोर्निया में उनका सेब का एक बाग था और वहां उनका काफी समय बीता था. साथ ही स्टीव सेब को एक मुकम्मल फल मानते थे. जब वो कंपनी बनाने जा रहे थे, तो नामों की सूची में एप्पल सबसे ऊपर था और ये नाम उन्होंने ही दिया था.

तो अब आप समझे कि आपके फोन पर बना एप्‍पल आधा खाया हुआ क्यों है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top