2015 की बॉलीवुड फिल्म ‘दृश्यम’ से प्रेरित होकर मध्य प्रदेश के इंदौर में भारतीय जनता पार्टी के एक नेता जगदीश करोतिया उर्फ कल्लू पहलवान ने कांग्रेस की एक महिला नेता ट्विंकल डागरे की हत्या करवा दी. इंदौर के उप महानिरीक्षक (डीआईजी) हरिनारायणचारी मिश्रा ने संवाददाताओं को बताया कि भाजपा नेता जगदीश करोतिया उर्फ कल्लू पहलवान (65), उनके तीन बेटे अजय (36), विजय (38), विनय (31) और उनके सहयोगी नीलेश कश्यप (28) को बाणगंगा क्षेत्र की निवासी ट्विंकल डागरे (22) की हत्या के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है.

मिली खबरों के मुताबिक कल्लू पहलवान और ट्विंकल डागरे के बीच अवैध संबंध थे और ट्विंकल कल्लू पहलवान के साथ रहना चाहती. लेकिन कल्लू पहलवान के बेटे इस बात से सहमत नहीं थे. बाद में उन्होंने मिलकर फिल्म अजय देवगन की फिल्म ‘दृश्यम’ देखकर पुलिस को गुमराह करने के लिए सबूत मिटाने की कोशिश की.

मिश्रा ने कहा कि मामले को सुलझाने के लिए एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण अपनाया गया और गुजरात प्रयोगशाला में करोतिया और उनके दो बेटों पर ब्रेन इलेक्ट्रिकल ऑसिलेशन सिग्नेचर (BEOS) का टेस्ट किया गया.

उन्होंने दावा किया कि इंदौर में एक आपराधिक घटना में पहली बार बीईओएस टेस्ट किया गया था. बीईओएस प्रोफाइलिंग एक गैर-आक्रामक, पूछताछ का न्यूरो-मनोवैज्ञानिक तकनीक है, जिसे कभी-कभी ‘ब्रेन फिंगरप्रिंटिंग’ के रूप में संदर्भित किया जाता है, जिसमें इलेक्ट्रोफिजियोलॉजिकल आवेगों को हटाकर एक अपराध में एक संदिग्ध की भागीदारी का पता लगाया जाता है.

मिश्रा ने बताया कि पारिवारिक कलह के कारण, करोतिया और उनके बेटों ने ट्विंकल डागरे को मारने की साजिश रची थी. उन्होंने 16 अक्टूबर 2016 को उसका गला घोंट दिया और बाद में उसके शरीर को जला दिया था. डीआईजी ने कहा कि पुलिस ने उस जगह से एक कंगन और अन्य गहने बरामद किए जहां महिला का शरीर जलाया गया था, जिसके बाद पांचों को गिरफ्तार कर लिया गया.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top