पिथौरागढ़:  पूर्व सीएम को जान से मारने की धमकी देने के आरोप में 3 साल के लिए जेल गए मनोज कुमार ने जेल से बाहर आते ही पुलिस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और वो नंगे बदन बिच्छू घास पर बैठकर अनशन कर रहे हैं.

नंगे बदन बिच्छू घास पर बैठकर अनशन शुरु

जी हां तीन साल पहले कोर्ट से बरी हुए बंगापानी के मनोज कुमार ने पुलिस पर झूठा मुकदमे में जेल डालने के आरोप में पांखू के कोटगाड़ी मंदिर में नंगे बदन बिच्छू घास पर बैठकर अनशन शुरु किया. उन्होंने बताया कि उस दौरान वो देहरादून में पढ़ाई कर रहे थे औऱ पूर्व सीएम रमेश पोखरियाल निशंक को बम से उड़ाने की धमकी देने के मामले में झूठा केस लगाकर फंसाया गया. साथ ही मनोज ने पुलिस पर शारीरिक और मानसिक शोषण का भी आरोप लगाया.

पुलिस कस्टडी के दौरान उनको खूब मारा पीटा गया-मनोज

जानकारी देते हुए मनोज कुमार ने बताया कि पुलिस कस्टडी के दौरान उनको खूब मारा पीटा गया…जिससे उनका कान के पर्दे खराब हो गए. उन्होंने कहा कि पुलिस ने उन्हें झूठे मुकदमे में फंसा कर उनका जीवन बर्बाद कर दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें मनोज 3 साल पहले कोर्ट से बरी हुए हैं और वो अपने साथ हुई बर्बरता और नुकसान की भरपाई की चाहते हैं. जिसकी मांग को लेकरवो अनशन कर रहे हैं. बता दें इससे पहले भी वो जिला मुख्यालय के बाहर अनशन कर चुकें हैं.

देखने वाली बात होगी की इस कदर अनशन पर बैठे मनोज कुमार की कोई सुध लेता भी है या नहीं. बड़ा सवाल ये  भी है कि पुलिस के खिलाफ खोले मोर्चे में क्या पुलिस का कोई अधिकारी आकर मनोज की सुध लेता है की नहीं?





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top