अटल आयुष्मान योजना के तहत अब शराब या नशीले पदार्थ का सेवन करने के बाद यदि किसी को चोट लग जाती है. तो ऐसे मरीजों का इलाज आयुष्मान योजना में नहीं आता है. सरकार की ओर से एडवाइजरी जारी कर दी गई है. इस योजना के तहत सरकार सभी परिवारों को पांच लाख रुपये के निशुल्क इलाज की सुविधा दे रही है.

अटल आयुष्मान ट्रस्ट चेयरमैन डीके कोटियाल ने बताया कि यदि कोई मरीज शराब या नशीले पदार्थ सेवन से घायल-चोटिल होता है तो उसे इसका लाभ नहीं मिलेगा. आत्महत्या के प्रयास के मामलों को भी इस दायरे से बाहर रखा गया है. उन्होंने बताया कि इसके लिए अस्पतालों को एडवाइजरी भी जारी की गई है.

यह सुविधा राज्य के सरकारी चिकित्सालयों (जिसमें समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, जिला चिकित्सालय, संयुक्त चिकित्सालय एवं बेस चिकित्सालय सम्मिलित है) एवं सूचीब़द्ध निजी चिकित्सालयों में (रैफर करने के आधार पर) प्रदान की जायेगी. इमरजेन्सी में सूचीबद्ध निजी चिकित्सालयों में बिना रैफर किये भी उपचार कराया जा सकता है. यह योजना पूर्णतः कैशलैस एवं पेपरलैस है.

“अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना” प्रारम्भ करते हुये लगभग 18 लाख और परिवारों को भी प्रतिवर्ष 5 लाख रूपये की निःशुल्क चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करायी जायेगी. इस प्रकार उत्तराखण्ड राज्य के समस्त 23 लाख परिवारों को सामान्य एवं गम्भीर बीमारी के ईलाज हेतु निःशुल्क चिकित्सा सुविधा प्राप्त हो सकेगी.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top