• अभी भी चल रही है संजय को बचाने की कोशिशें !
देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
देहरादून : #Me too मामले में फंसे पूर्व संगठन महामंत्री संजय कुमार से भाजपा ने नाता तोड़ लिया है। खास बात ये है कि अभी तक महिला शोषण के आरोपो की जांच शुरुआती चरण में ही है और शिकायतकर्ता महिला द्वारा 161 के बयानों के बाद अब  164 के बयान दर्ज कारवाई जाने हैं। 
हालाँकि पार्टी के भीतर चर्चा  है कि संजय कुमार अभी भी पार्टी के एक राष्ट्रीय संगठन महामंत्री और  भाजपा के राष्ट्रीय सह महामंत्री (संगठन)  और उत्तराखंड के संपर्क में हैं और जो  उन्हें बचाने के पूरे प्रयास कर रहे हैं। पार्टी सूत्रों का कहना है कि तीन नवंबर को एक समाचार पत्र में #Me too  प्रकरण में फंसने की खबर के बाद एकाएक उनको इन्ही दो नेताओं द्वारा दिल्ली बुलाकर पार्टी से निष्कासित किये जाने के बजाय उनसे इस्तीफा लेकर उन्हें बचाने की कोशिश की गयी। 
उत्तराखंड भाजपा में संगठन महामंत्री जैसी पॉवरफुल कुर्सी से संजय कुमार की विदाई होते ही पार्टी नेताओं ने उनसे हाथ खींचने शुरू कर दिए हैं। हालात ये है कि खुद संगठन के अध्यक्ष ने ही संजय कुमार से पार्टी का कोई नाता नही होने की बात कह दी है। अजय भट्ट की माने तो संजय कुमार से अब पार्टी का कोई लेना देना नही है और वो पार्टी से जा चुके हैं।
#Me too मामले में संजय कुमार पर पीड़िता ने शोषण का आरोप लगाया है तो पार्टी के दूसरे कुछ नेता भी हैं जिनपर मामले को दबाने के आरोप लगाए गए हैं ऐसे में अब इन आरोपो के बाद पार्टी संजय कुमार से दूरियां बनाने लगी है और पार्टी अध्यक्ष अजय भट्ट इन बातों की सार्वजनिक रूप से तस्दीक भी करने लगे हैं। 





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top